गंधमादन पर्वत – कलयुग में हनुमान जी का निवास स्थान

gandhamadan parvat hanuman

gandhamadan parvat hanuman

gandhamadan parvat hanuman  :

श्री हनुमान चालीसा में गोस्वामी तुलसीदास ने भी लिखा है कि – ‘चारो जुग परताप तुम्हारा है परसिद्ध जगत उजियारा।’
इस चौपाई में साफ संकेत है कि हनुमान जी ऐसे देवता है, जो हर युग में किसी न किसी रूप, शक्ति और गुणों के साथ जगत के लिए संकटमोचक बनकर मौजूद रहेंगे। हनुमानजी से जुड़ी यही विलक्षण और अद्भुत बात उनके प्रति आस्था और श्रद्धा गहरी करती है।

यत्र-यत्र रघुनाथ कीर्तन तत्र कृत मस्तकान्जलि।
वाष्प वारि परिपूर्ण लोचनं मारुतिं नमत राक्षसान्तक॥”

अर्थात: कलियुग में जहां-जहां भगवान श्रीराम की कथा-कीर्तन इत्यादि होते हैं, वहां हनुमानजी गुप्त रूप से विराजमान रहते हैं। सीताजी के वचनों के

अनुसार- अजर-अमर गुन निधि सुत होऊ।। करहु बहुत रघुनायक छोऊ॥

तुलसीदास जी द्वारा रचित राम चरित्र मानस में लिखते हैं कलियुग में भी हनुमान जी जीवंत रहेंगे और उनकी कृपा से ही उन्हें श्रीराम और लक्ष्मण जी के साक्षात दर्शनों का सौभाग्य प्राप्त हुआ था। इन्हें सीताराम जी से आशीर्वाद स्वरूप अजर अमर होने का वर भी प्राप्त है।
हिंदु शास्त्रों के में भी आता है कि “अश्वत्थामा बलिर व्यासः हनुमंथरः विभीषणः। कृबा परशुराम च सप्तैतेय चिरंजीविनः।।“
अर्थात सात ऐसे चिरंजीवी महापुरूष हैं जो सदा के लिए अजर-अमर हैं और इनके नाम को सच्चे दिल से याद करने मात्र से भाग्य और आयु में वृद्धि होती है।

gandhamadan parvat hanuman  :

जब श्रीराम भूलोक से बैकुण्ठ को चले गए तो हनुमान जी ने अपना निवास पवित्र और ईश्वरीय कृपा से युक्त स्थान गंधमादन पर्वत को बनाया और आज भी वह वहीं निवास करते हैं। इस बात की पुष्टि श्रीमद् भगावत् पुराण में भी की गई है। भगवान हनुमान जी ने इसी पवित्र स्थल को अपना निवास बनाया और कहते हैं कि समय-समय पर हनुमान जी यहाँ से नीचे भी आते हैं और अपने प्यारे भक्तों को दर्शन भी देते हैं।
हनुमान चालीसा में तुलसीदास जी बताते हैं कि “तुम्हरे भजन राम को पावै, जनम जनम के दुख बिसरावै”,
अर्थात जो भी व्यक्ति भगवान श्री हनुमान को याद करता है, इनका भजन करता है वह भगवान श्री राम को तो प्राप्त करता ही है साथ में उस व्यक्ति के जन्म-जन्म के दुःख भी खत्म हो जाते हैं।

पुराणों के अनुसार गंधमादन पर्वत भगवान शिव के निवास कैलाश पर्वत के उत्तर में अवस्थित है। इस पर्वत पर महर्षि कश्यप ने तप किया था। हनुमान जी के अतिरिक्त यहां गंधर्व, किन्नरों, अप्सराओं और सिद्घ ऋषियों का भी निवास है। माना जाता है की इस पहाड़ की चोटी पर किसी वाहन द्वारा जाना असंभव है। सदियों पूर्व यह पर्वत कुबेर के राज्यक्षेत्र में था लेकिन वर्तमान में यह क्षेत्र तिब्बत की सीमा में है।
कहाँ है गंधमादन पर्वत?

gandhamadan parvat hanuman :

हिमालय के कैलाश पर्वत के उत्तर में (दक्षिण में केदार पर्वत है) स्थित गंधमादन पर्वत की। यह पर्वत कुबेर के राज्यक्षेत्र में था। सुमेरू पर्वत की चारों दिशाओं में स्थित गजदंत पर्वतों में से एक को उस काल में गंधमादन पर्वत कहा जाता था। आज यह क्षेत्र तिब्बत के इलाके में है। पुराणों में जम्बूद्वीप के इलावृत्त खंड और भद्राश्व खंड के बीच में गंधमादन पर्वत कहा गया है, जो अपने सुगंधित वनों के लिए प्रसिद्ध था।
कैसे पहुंचे गंधमादन पर्वत?

यहाँ जाने के तीन प्रमुख रास्ते बतायें जाते हैं। नेपाल के रास्ते मानसरोवर से आगे और दूसरा भूटान की पहाड़ियों से आगे और तीसरा अरुणाचल के रास्ते चीन होते हुए। गंधमादन पर्वत पर इन तीन रास्तों से पहुंचा जा सकता है. गौरतलब है कि एक गंधमादन पर्वत उड़ीसा में भी बताया जाता है लेकिन हम उस पर्वत की बात नहीं कर रहे हैं। यदि आप भी यहाँ जाने की सोच रहे हैं तो ध्यान रखें कि यह स्थान बहुत अधिक सुरक्षित भी नहीं है। कुछ संतजन बताते हैं कि यहाँ जाने के लिए व्यक्ति को छल, कपट और सभी पापों से मुक्त होना पड़ता है।

जानिए हनुमान जी को प्रसन्न करने के ये उपाय !

क्या होगा अगर शनिदेव की दृष्टि पड़ेगी आप पर….आइये जानते है !

You May Also Like