हनुमान जी के इस मंदिर में मांगी हर मुराद होती है पूरी- गारंटी से

koranti guarantee temple

koranti guarantee temple

koranti guarantee temple :

क्या आपने कभी सुना या पढ़ा है कि भगवान भी अपने भक्त को किसी मांग के पूरा होने की गारंटी दे सकते हैं। जी हाँ, अपने ऐसा कभी सोचा भी नहीं होगा। लेकिन कर्नाटक राज्य के गुलबर्गा क्षेत्र में स्थित कोरनटी गारंटी हनुमान मंदिर, ( koranti hanuman temple gulbarga )आपको यह गारंटी प्रदान करता है।

कोरनटी गारंटी हनुमान मंदिर, यहाँ जाने वाले हर व्यक्ति को वरदान है कि अगर आपकी मांग सही है और आप पवित्र दिल से यहाँ जाते हैं तो हनुमान जी आपको गारंटी देते हैं कि आपका काम और आपकी मांग जरूर पूरी हो जाएगी।

हनुमान जी के इस मंदिर का निर्माण सन 1957 में हुआ है। हनुमान जी के इस मंदिर का यह नाम, पास ही के स्थित मेडिकल कालेज की वजह से पड़ा है। इस मेडिकल कालेज में पढ़ने वाले बच्चे, अपने पास होने की प्रार्थना लेकर आते थे और यहाँ आने वाले सभी बच्चे पास भी हो जाते थे। धीरे-धीरे मंदिर की महिमा का पता लोगों को पता चला और अपनी-अपनी प्रार्थना लेकर लोग यहाँ आने लगे। जब सभी ज़ायज मांगें पूरी होने लगी तो अंत में मंदिर का नाम ही ‘कोरनटी गारंटी हनुमान मंदिर’ रख दिया गया।

ये भी पढ़े... मंगलवार को करें ये काम, बजरंग बली लगाएंगे बेड़ा पार !

मंदिर की महिमा के बारे में लोग और मंदिर के पुजारी जी बताते हैं कि अगर कोई व्यक्ति अपनी मांग यहाँ लेकर आता है और ‘घंटा-आधा घंटा’ मंदिर में बैठकर, हनुमान चालीसा का निरंतर पाठ करता है तो भगवान हनुमान जी व्यक्ति की जरुर सुनते हैं और सही मांग को जल्द ही पूरा भी कर देते हैं। यहाँ आने वाले लोग, धन, व्यवसाय, नौकरी, पारिवारिक कलेश, संतान प्राप्ति आदि से लेकर अपनी हर तरह की समस्या का समाधान प्राप्त करने यहाँ आते हैं।

पास ही में है किष्किन्धा पर्वत :
वैसे रामायण से जुड़े कई धार्मिक स्थल भी आपको यहाँ देखने को प्राप्त हो सकते हैं। कुछ 6 घंटे की दुरी पर कौप्पल और बेल्लारी में स्थित किष्किन्धा पर्वत भी है। कहा जाता है कि हनुमान जी की माता जी ने यहीं पुत्र प्राप्ति के लिए तपस्या की थी। यहाँ एक पर्वत पर हनुमान जी का मंदिर भी है जो खुद अपने आप में अनोखी महिमा धारण किये हुए हैं।

जानिए क्यों फेंका हनुमान जी ने शनिदेव को लंका से बहार !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *