आइये जानते है क्या विशेष योग है इस बार हनुमान जयंती पर !

hanuman jyanti

रामचरितमानस के चमत्कारिक मंत्र, hanuman jyanti

hanuman jyanti :

संकटों को हरने वाले देवता हनुमान जी कलयुग में सबसे ज्यादा प्रभावशाली व चमत्कारी है। जिनके नाम मात्र से भूत-प्रेत व भय दूर भागता हो, उनका नित्य जाप करने से छूटहि बन्द महासुख होई। चैत्र शुक्ल पूर्णिमा, दिन शुक्रवार को चित्रा नक्षत्र व वज्र योग में इस बार मनाई जायेगी धूमधाम से हनुमान जयन्ती। इसी दिन स्नान-दानादि की चित्रयुता पूर्णिमा है और साथ में यमुना जयन्ती भी पड़ रही है इसलिए इस बार की जंयति बहुत खास है।

आईये जानते हैं कैसे निम्नलिखित बिंदुओं में…

1. वज्र योग :

22 अप्रैल को सांय 4 बजकर 46 मि0 तक वज्र योग रहेगा। ‘लाल देह लाली लसे, अरूधरि लाल लंगूर। वज्र देह दानव दलन, जय-जय कपि सूर। हनुमान जी ने वज्र रूप धारण करके दानवों का नाश किया था।
वज्र योग में हनुमान जी की आराधना करने से शत्रुओं का शमन होता है और युद्ध में विजय प्राप्त होती है। इस योग में जन्मे बालक का शरीर बलिष्ठ होता है, साहसी होता, पराक्रमी होता है और अपने माता-पिता की सेवा करने वाला होता है।

आगे पढ़े…

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *