जानिये कलयुग के पांच अनोखे आश्चर्य जो बताए गए है महाभारत की एक अनसुनी कथा में !

mahabharata, mahabharata book, the mahabharata, mahabharata characters, mahabharat katha hindi, read mahabharat katha in hindi, writer of mahabharata, mahabharata story, mahabharata summary, mahabharata story in hindi

महाभारत युद्ध के समाप्त हो जाने के पश्चात जब हर जगह शांति थी तब पांचो पांडव भगवान श्री कृष्ण के साथ भ्रमण के लिए निकले. मार्ग में चलते हुए पांडवो ने भगवान श्री कृष्ण से कलयुग के विषय में चर्चा करी, कलयुग के बारे में विस्तार से पूछा और यह जानने की इच्छा जाहिर करी की कलयुग में मनुष्य कैसा होगा, उसके व्यवहार कैसे होंगे व उसे मोक्ष कैसे प्राप्त होगा ?

इसे समझाने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने पांचो पांडवो से कहा, तुम सब वन में जाओ और वहां जो भी घटना घटित हो आकर मुझे बताना. में उसका प्रभाव बताऊंगा.

भगवान कृष्ण की आज्ञा पाकर पांचो पांडव वन की ओर चल दिए. तीनो वन में प्रवेश करते ही अलग-अलग दिशा की ओर बढ़े.

ये भी पढ़े... मंगलवार को करें ये काम, बजरंग बली लगाएंगे बेड़ा पार !

सबसे पहले महराज युधिस्ठर ने एक हाथी को देखा जिसके पास दो सुड थे. यह देखकर युधिस्ठर के आश्चर्य का ठिकाना न रहा.

उधर अर्जुन भी दूसरी दिशा की ओर चलते हुए अचानक किसी चीज़ को देखकर ठहरे, उन्होंने एक पंक्षी देखा जिसके पंखो पर शास्त्रों एवं वेदो की ऋचाएं लिखी हुई थी, यह भी आश्चर्य की बात थी.
तीसरे आश्चर्य की बात यह थी की भीम ने एक जानवर को बच्चा देते देखा, उस जानवर ने अपने उस बच्चे इतना चाटा की वह बच्चा लहूलुहान हो जाता है.

सहदेव ने चौथा आश्चर्य देखा, चौथा आश्चर्य यह था की सात कुए थे जिनमे बिच का छोड़कर सारे कुए ऊपर तक भरे थे. जबकि बिच वाला कुआँ गहरा होते हुए भी बिलकुल खाली था.

ये भी पढ़े... घर के मंदिर में कभी भी ना करें ये गलतिया !

अगला पेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *