वनवास के दौरान लक्ष्मण नहीं सोये थे 14 वर्षो तक, पत्नी उर्मिला ने ली थी हिस्से की नींद ! लक्ष्मण से जुड़े कुछ रोचक रहस्य..

lakshman, rama and lakshmana, rama and lakshmana relationship, character of lakshmana, ramayan, ramayan ramanand sagar, ramayan in hindi, lord rama, lord rama mantra, lord rama mantra in hindi

Lakshman :-

रामायण के अनेको ऐसे रहस्य है जिनसे सायद आप अभी भी अंजान होंगे और जो निश्चित ( lakshman ) ही आप को आश्चर्य में डाल देगी. प्रभु श्री राम के भाई और शेषनाग के अवतार कहे जाने वाले लक्ष्मण ( lakshman ) ने रामायण में महत्वपूर्ण भमिका निभाई थी,

लक्ष्मण अपने अंतिम साँसो तक सदैव अपने भ्राता राम की सेवा में तत्पर रहे. आज हम आपको लक्ष्मण ( lakshman ) से ही संबंधित उनके बारे में विचित्र रहस्य बताने जा रहे है.

जब दशरथ के चारो पुत्रों ( राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न ) का जन्म हुआ तो वे चारो कुछ समय तक रोने के बाद चुप हो गये. परन्तु लक्ष्मण ने रोना जारी रखा. दशरथ की तीनो रानियाँ परेशानी में आ गई की आखिर लक्ष्मण को चुप कैसे करायें.

परन्तु जैसे ही लक्ष्मण ( lakshman ) को श्री राम के बगल में सुलाया गया तो वे अपने आप ही चुप हो गए.

तब से लक्ष्मण प्रभु श्री राम की परछाई बने रहे चाहे वह वाल्मीकि के साथ वन में जाकर ताड़िका का वध करना हो या 14 वर्ष के बहुत लम्बे समय तक श्री राम और माता सीता के साथ वनवास में उनकी सेवा करना हो.

जब लक्ष्मण ( lakshman ) भगवान राम और माता सीता के साथ वन में जाने को तैयार हुए तब लक्ष्मण ( lakshman ) की पत्नी उर्मिला ने भी उनके साथ वन में जाने की जिद करी. जिस पर लक्ष्मण ने उन्हें वन में होने वाले असहनीय कष्टों एवं पीड़ा के बारे में बताया तब भी वह नहीं मानी.

उर्मिला लक्ष्मण ( lakshman ) से बोली की में इन असहनीय पीड़ा को खुसी-खुसी स्वीकार कर लुंगी परन्तु मुझे मेरे पत्नीधर्म से मत रोको.

तब लक्ष्मण ने पत्नी उर्मिला से विनती करी और कहा में भ्राता राम और माता सीता की सेवा करना चाहता हु यदि तुम साथ होगी तो मुझे मेरे कार्य में बाधा आएगी. इस पर लक्ष्मण ( lakshman ) की पत्नी उर्मिला ने उन्हें इजाजत दे दी.

जब वनवास के दौरान कुटिया में श्री राम एवं माता सीता सो रहे थे तब लक्ष्मण ( lakshman ) कुटिया के बाहर ही पहरा दे रहे थे. उसी दौरान निद्रा रानी लक्ष्मण ( lakshman ) के पास आई तब लक्ष्मण ने उनसे 14 वर्ष तक दूर रहने का वरदान माँगा परन्तु समस्या यह उतपन्न हुए की लक्ष्मण के हिस्से की नींद कौन ले.

तब लक्ष्मण ( lakshman ) ने एक संदेश के साथ अपने हिस्से की नींद अपनी पत्नी उर्मिला के पास भेज दी. इस तरह 14 वर्ष तक लक्ष्मण के हिस्से की नींद उनकी पत्नी उर्मिला लेती रही.

उर्मिला लगातार चौदह वर्ष तक सोती रही और लक्ष्मण जाते रहे तथा ये बात लक्ष्मण ( lakshman ) के मेघनाद के साथ युद्ध में सहायक हुई. क्योकि मेघनाद को वही युद्ध में पराजित कर सकता था जो चौदह वर्षो तक सोया न हो.

इस तरह लक्ष्मण ने मेघनाद की मायावी शक्तियों को परास्त कर उसका वध कर दिया.

जब भगवान श्री राम का राजतिलक हो रहा था उस समय लक्ष्मण को जोर से हसी आई जब राजदरबार में सब उन्हें आश्चर्य की नजरो से देखने लगे तब लक्ष्मण बोले की उर्मिला अभी सो रही है और जब में उबासी लूंगा तो वह इस समारोह में हिस्सा लेगी.

इस पर सब हस पड़े तथा तब उर्मिला राजदरबार में आई .

आखिर क्यों दिए थे हनुमान जी ने भीम को अपने शरीर के तीन बाल, एक अनसुनी कथा !

You May Also Like