शास्त्रों में बताए गए इन तरीकों से कोई भी जान सकता ”मृत्यु” की तारीख !

hindu god of death yamaraj

how to know the death date of a person, how to know death date and reason, my death date and reason, our death date, predict death date and reason, my death date, how much i will live

hindu god of death yamaraj :

मृत्यु इस पुरे सृष्टि में सबसे बड़ी सच्चाई है जिसे कोई भी व्यक्ति झुठला नहीं सकता. कोई भी व्यक्ति या प्राणी जिसने जन्म लिया है उस व्यक्ति का अंत निश्चित है. विधाता द्वारा यह व्यक्ति के जन्म के साथ ही निर्धारित कर दिया जाता है की उस व्यक्ति की मृत्यु कब, कहाँ और कैसे होगी.

इस सब के बावजूद व्यक्ति इस परम सत्य को जानते हुए भी इससे अंजान बनने की कोशिश करता है तथा हमेशा व्यक्ति की चिंता इस बात पर स्थिर रहती है की कहि उसे या उसके परिजनों को कुछ हो तो नहीं जाएगा. जिस तरह हर प्राणी में बसा जीवन एक सत्य है उसी प्रकार इस जीवन के बाद मृत्यु भी उतना ही बड़ा सत्य है.

यदि व्यक्ति सोचता है की वह बहुत ताकतवर है, बहुत सारे धन का स्वामी है या फिर किसी उच्चे ओहदे पर है तथा मृत्यु उसे छू तक नहीं सकती या वह मृत्यु को अपने वश में रखने का सामर्थ्य रखता है तो वह दुनिया में सबसे बड़ा मुर्ख है. क्योकि राजा से लेकर रंक को एक ना एक दिन मृत्यु आनी है. कोई भी अभी तक मृत्यु पर विजयी प्राप्त नहीं कर पाया है.

लेकिन मृत्यु बाद आत्मा का क्या होता है तथा वह फिर से पुनर्जन्म लेकर इस संसार में आती है या नहीं यह अभी तक एक रहस्य बना हुआ है.

मनुष्यो को यह अभी तक ज्ञात नहीं हो पाया की उसका अंत कितना नजदीक है परन्तु हमारे ग्रंथो एवं पुराणों में कुछ ऐसे संकेतों के बारे में बताया गया है की जिनके सहायता से हम यह पता लगा सकते है की व्यक्ति का अंतिम समय अर्थात मृत्यु कब हो सकती है.

पढ़े मृत्यु को जानने के संकेत….

how to know the death date of a person, how to know death date and reason, my death date and reason, our death date, predict death date and reason, my death date, how much i will live

शिव पुराण में मृत्यु के संबंध में कुछ ऐसे बाते बताई गई है की जिन्हे पहचान कर व्यक्ति के मृत्यु के समय को ज्ञात किया जा सकता है . आइये जानते है क्या लिखा शिव पुराण में मृत्यु के संबंध में :-

चेहरे के रंग में बदलाव आना :- शिव पुराण के अनुसार यह बताया गया है की यदि किसी व्यक्ति के चेहरे का रंग पिला, सफेद या हल्का लाल पड़ता है तो यह इस बात की ओर संकेत करता है की व्यक्ति की मृत्यु छः महीने के भीतर निश्चित है.

परछाई का नहीं दिखना :- सधारण रूप से जब कभी भी हम तेल या पानी में झांकते है तो उसमे हमे हमारी परछाई नजर आती है परन्तु यदि किसी व्यक्ति को तेल या पानी में अपनी परछाई दिखनी बंद हो जाए तो यह संकेत होता है की अब उस व्यक्ति की मृत्यु नजदीक है.

शीशे में चेहरा ना दिखाई दे :- पानी और तेल के साथ ही साथ व्यक्ति का धुप एवं शीशे में भी परछाई दिखना बंद हो जाती है. इस प्रकार के व्यक्ति की मृत्यु 6 महीने के भीतर होना निश्चित होता है.

वस्तु का कला नजर आना :- जिस व्यक्ति की मृत्यु करीब होती है उसे रंगो की पहचान करने में दिक्कत आने लगती है तथा उसे हर वस्तु का रंग काला दिखाई देने लगता है.

बाएं हाथ का कापना :- शिव पुराण में यह कहा गया है की यदि किसी व्यक्ति का बायाँ हाथ एक हफ्ते से लगातार काँपता है तो यह इस ओर संकेत करता है की व्यक्ति की मृत्यु एक माह के भीतर होना तय है.

इंद्रियों में कड़ापन :- मनुष्य की पांच इंद्रिया आँख, नाक, हाथ, जीभ और हाथ इन पांचो में कड़ापन आने लगे तो यह संकेत उस व्यक्ति की मृत्यु को सुनिश्चित करता है.

नाक का न दिखाई देना :- समान्य तोर पर हर कोई व्यक्ति अपने नाक को देख सकता भले है वह उसे धुंधला दिखाई देता हो परन्तु यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु निकट हो तो उसे अपनी नाक दिखाई देनी बंद हो जाती है क्योकि ऐसा कहा जाता की मृत्यु के समय व्यक्ति की आँखे ऊपर की ओर मुड़ने लगती है.

रौशनी देखने में असमर्थता :- आमतौर पर व्यक्ति को सूर्य, चन्द्रमा या आग में से रौशनी दिखाई देती है परन्तु जिस व्यक्ति की मृत्यु उसके बहुत करीब हो उसके लिए इन सब में दिखने वाली रौशनी लाल रंग में परिवर्तित हो जाती है.

खंडित चाँद : – यदि व्यक्ति की मृत्यु कुछ ही पलो में होने वाली होती है तो उसे चाँद में दरारे या खंडित चाँद दिखाई देने लगता है.

hindu god of death yamaraj :

how to know the death date of a person, how to know death date and reason, my death date and reason, our death date, predict death date and reason, my death date, how much i will live

मृत परिजनों का अहसास :- यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु नजदीक होती है तो उसे अपने मृत परिजनों का अहसास होने लगता है तथा यह अहसास इतना गहरा होता है की उसे लगता है की उसके मृत परिजन बिलकुल उसके करीब ही है और वह उन्हें देख या सुन सकता है .

अंजान साये के साथ होने का अहसास :- जब किसी व्यक्ति के मृत्यु के 2 – 3 दिन रह जाते है उसे उन दिनों में अहसास होने लगता है की उसके साथ ही कोई अंजान साया भी उसके साथ रह रहा है.

ध्रुव तारे का ना दिखना :- यदि किसी मनुष्य की मृत्यु नजदीक है तो वह आसमान के असंख्य तारो में सबसे ज्यादे चमकने वाले ध्रुव तारे को नहीं देख पाता. यह संकेत होता है की व्यक्ति की मृत्यु छः महीने के भीतर होने वाली है.

शीशे में किसी और का चेहरा नजर आना :- समान्यतोर पर जब हम शीशे में अपना चेहरा देखते तो है तो हमे हमारा चेहरे का प्रतिबिम्ब शीशे में दिखाई देता है परन्तु यदि किसी व्यक्ति को शीशे में चेहरा देखने पर किसी और का चेहरा दिखाई दे तो यह उस व्यक्ति के 24 घंटे के भीतर मृत्यु का संकेत होता है.

यदि घर पर स्थापित किया हो शिवलिंग तो भूल से भी न करें इन कार्यो को !

You May Also Like