वासुदेव कृष्ण के अत्यन्त शक्तिशाली अस्त्र सुदर्शन चक्र की सच्चाई को जान चकित हो जायेंगे आप !

Sudharshan Chakra

सुंदर्शन चक्र एक अत्यधिक घातक अस्त्र है जिसका का वार अचूक होता है. यदि यह अस्त्र किसी पर छोड़ दिया जाय तो उसका सर्वनाश निश्चित है. यह जिस व्यक्ति पर छोड़ा गया उसका काम तमाम कर वापस अपने पूर्व स्थान पर वापस आ जाता है जहां से इसे छोड़ा गया था.

सुदर्शन चक्र भगवान श्री कृष्ण के तर्जनी उंगली में घूमता है. यह अस्त्र भगवान श्री कृष्ण के अभिन्न रूप से जुडा हुआ है तथा भगवान श्री कृष्ण सुदर्शन चक्र का प्रयोग तभी करते है जब तक की इसकी अत्यन्त आवश्यक्ता न पड़ जाए.

सुंदर्शन चक्र खुद जितना रहस्मय है उतना ही इसका निर्माण और संचालन भी है, आइये जानते श्री कृष्ण के सुदर्शन चक्र से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी.

1 . भगवान विश्वकर्मा की पुत्री का विवाह सूर्य देवता से हुआ. परन्तु विवाह के बाद भी उनकी पुत्री खुश नहीं थी जिसका कारण था सूर्य देवता की अत्यधिक गर्मी और उनका ताप. इसी कारण वह अपना विवाहिक जीवन सही ढंग से व्यतीत नहीं कर पा रही थी.

ये भी पढ़े... मंगलवार को करें ये काम, बजरंग बली लगाएंगे बेड़ा पार !

अपने पुत्री के कहने पर विश्वकर्मा ने सूर्य देवता से थोड़ी सी चमक व रौशनी ले ली जिससे बाद में उन्होंने पुष्पक विमान का निर्माण करवाया.
सूर्य देव के उसी चमक और प्रकाश से भगवान शिव के त्रिशूल तथा सुदर्शन चक्र का भी निर्माण किया गया.

2 . पुराणों की एक कथा में यह बताया गया है की भगवान शिव ने विष्णु की कठिन तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें दुष्टों के विनाश के लिए सुंदर्शन चक्र वरदान स्वरूप प्रदान किया था.

3 .पुराणों व अन्य धर्मग्रंथों में जिन अस्त्र-शस्त्रों का विवरण मिलता है उनमें सुदर्शन चक्र भी एक है. विभिन्न देवताओं के पास अपने-अपने चक्र हुआ करते थे.

4 . सभी चक्रों की अलग-अलग क्षमता होती थी और सभी के चक्रों के नाम भी होते थे. महाभारत युद्ध में भगवान कृष्ण के पास सुदर्शन चक्र था. शंकरजी के चक्र का नाम भवरेंदु, विष्णुजी के चक्र का नाम कांता चक्र और देवी का चक्र मृत्यु मंजरी के नाम से जाना जाता था.

ये भी पढ़े... घर के मंदिर में कभी भी ना करें ये गलतिया !

5 .कहा जाता है की परमाणु बम के समान ही सुदर्शन चक्र के ज्ञान को भी गोपनीय रखा गया है. गोपनीयता सायद इसलिए रखी गयी होगी क्योकि इस अमोद्य अस्त्र की जानकारी देवता को छोड़ किसी अन्य को न लग जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *