जाने एक भिखारी ब्राह्मण कैसे बना धन का देवता, पुराणों में छिपी कुबेर देव की एक अनसुनी कथा !

kuber dev

आज हम आपको कुबेर देव के पूर्व जन्म से जुडी एक कथा के बारे में बताने जा रहे है की आखिर कैसे एक गरीब ब्राह्मण, देवताओ का कोषाध्यक्ष व धन का देवता बन जाता है. शिव पुराण की एक कथा के अनुसार अपने पूर्व जन्म में कुबेर देव एक गुणनिधि नामक ब्राह्मण थे.

अपने बालपन में पिता द्वारा उन्होंने धर्म शास्त्रों की शिक्षा ग्रहण करी लेकिन धीरे धीरे गलत मित्रो के संगति के कारण उनका ध्यान धार्मिक कर्म कांडो से हटकर जुआ खेलने तथा चोरी करने में लगने लगा. गुणनिधि ने धर्म से विमुख होकर अब आलस्य को अपना साथी बना लिया था.

इस तरह धीरे-धीरे समय बीतता रहा एक दिन गुणनिधि के पिता ने अपने पुत्र से दुखी होकर उसे घर से बाहर निकाल दिया. अब वह घर से निकाला हुआ बेसहारा एवं असहाय ब्राह्मण था. वह लोगो के घर जा जाकर भोजन मांगता.

ये भी पढ़े... मंगलवार को करें ये काम, बजरंग बली लगाएंगे बेड़ा पार !

एक दिन वह भोजन की तालश में गांव गांव भटक रहा था परन्तु उस दिन उसे किसी ने भोजन नहीं दिया. दुखी होकर गुणनिधि इधर उधर भटकते हुए वन की ओर जा पहुंचा. भूख व प्यास से उसका बुरा हाल हो रहा था.

तभी उसे कुछ ब्राह्मण अपने साथ भोग की सामग्री ले जाते हुए दिखाई दिए. भोग सामग्री को देख गुणनिधि की भूख और अधिक बढ़ गई तथा वह भी उन ब्राह्मणो के पीछे पीछे चल दिया.

ब्राह्मणो का पीछा करते करते गुणनिधि एक शिवालय आ पहुंचा. उसने देखा मंदिर में ब्राह्मण भगवान शिव के पूजा कर रहे थे.भगवान शिव को भोज अर्पित कर वे भजन कीर्तन में मग्न हो गए.

उधर गुणनिधि भी इस ताक में था की आखिर कैसे उसे भोजन चुराने का मौका मिले.

गुणनिधि को यह मौका मिला रात्रि के समय. रात्रि के समय भजन कीर्तन की समाप्ति के बाद सभी ब्राह्मण सो गए तथा गुणनिधि को बस इसी मोके का इन्तजार था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *