जब लंकापति रावण ने प्रभु श्री राम की माता कौशल्या का ही कर लिया था अपहरण, आखिर क्यों ?

भगवान श्री राम की माता कौशल्या के सम्बन्ध में आनंद रामायण में एक अनोखी कथा मिलती है. रामायण की कथा में आप रावण द्वारा सीता के हरण की कथा से तो भली भाँति परिचित होंगे की आखिर कैसे अपनी बहन सूपर्णखा की प्रतिशोध का बदला लेने के लिए रावण ने देवी सीता का छल से हरण किया.

लेकिन शायद आप इस कथा से परिचित नहीं होंगे की रावण द्वारा एक बार प्रभु श्री राम की माता कौशल्या का भी हरण किया था. वाल्मीकि रामायण के अनुसार कौशल्या के पात्र का चित्रण एक ऐसी स्त्री के रूप में किया गया है जिसे पुत्र प्राप्ति की इच्छा थी, तथा इस इच्छा की पुत्री के लिए राजा दशरथ ने एक विशाल यज्ञ करवाया था.

कौशल्या कौशल प्रदेश ( छत्तीसगढ़ ) की राजकुमारी थी तथा उनके पिता महाराजा सकोशल व माता रानी अमृतप्रभा थी. कौशल्या के स्वयम्बर के लिए अनेक देश प्रदेश के राजकुमारों को निमंत्रित किया गया था परन्तु इसी बीच एक और अन्य घटना घटित हुई.



वास्तविकता में कौशल प्रदेश के राजा सकोशल की राजा दशरथ से शत्रुता थी, तथा वे उनसे युद्ध चाहते थे परतु उधर दशरथ कौशल राज्य से शांति वार्ता करना चाहते थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *