हिन्दू धर्म के महान राजनीतज्ञ चाणक्य के अनुसार “न करें इस प्रकार की स्त्रियों से विवाह” !


आचार्य चाणक्य महान अर्थशास्त्री, राजनीतज्ञ व कुटनितज्ञ थे. आचार्य चाणक्य के द्वारा रचित उनके प्रसिद्ध ग्रंथो में से एक चाणक्यनिति शास्त्र में मनुष्य को उनके जीवन जीने के तरिके में सुधार लाने के सुझाव बताए गए है.

इस शास्त्र में ऐसे अनेक अनमोल एवं महत्वपूर्ण जीवन उपयोगी सूत्र दिए गए है जिन्हे अपने जीवन में अपनाकर मनुष्य चमत्कारिक रूप से बदलाव पा सकता है.

महान कूटनीतिज्ञ आचर्य चाणक्य जिंदगी के अनेक दावपेंच जानते थे. वह अपने शत्रु से सदैव दो कदम आगे रहते थे, किस के मन में क्या चाल रहा है तथा उसकी शत्रु की अगली चाल क्या होगी यह सब आचर्य चाणक्य आसानी से भाप जाते थे.

अपने जिंदगी के इन्ही अनुभवों से आचर्य चाणक्य ने अपने ग्रन्थ की रचना करी, जिसके अध्धयन से हम विभिन्न प्रकार के मनुष्य के चरित्र तथा उसके स्वभाव के बारे में जानकारी हासिल कर सकते है.

चाणक्य नीति के द्वारा स्त्री, पुरुष, बच्चे सभी के स्वभाव को आसानी से ज्ञात किया जा सकता है. मित्र या किसी संबंधी के साथ जुड़े रिश्तों को गहराई से समझा जा सकता है. इन सभी रिश्तों को जिस नजर से हम नहीं देख सकते उस नजरिए के बारे में इस ग्रन्थ में समझाया गया है.

आचार्य चाणक्य ने इस ग्रन्थ में अनेक जीवन उपयोगी नीति सूत्र दिए है, जिन्हे पढ़ने और समझने से हम लाभान्वित हो सकते है. आज हम आपको इन्ही नीति सूत्रों से संबंधित कुछ जानकारी देंगे जो स्त्रियों से संबंधित है.

अपने ग्रन्थ में चाणक्य ने स्त्रियों के संबंध में काफी कुछ कहा है. स्त्रियों का स्वभाव, उनकी सोच, उनकी फितरत तथा किस समय में वह कैसा बरताव करती है इस सब अध्ययन किया है आचर्य चाणक्य ने.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *