जब महान मह्रिषी नारद मुनि को भी मात दी इस साधारण तपस्वी ने, ”विश्वाश में छुपी शक्ति”!

krishna 1

एक समय नारद मुनि प्रभु का स्मरण करते हुए आकाश मार्ग से गुजर रहे थे, तभी उनके मन में अहंकार की भावना जगी. वे सोचने लगे की इस पूरी सृष्टि में वे ही एकमात्र विष्णु के परम भक्त है. अहंकार में मदमस्त वे एक पर्वत के पास से गुजरे.

अचानक नारद मुनि के नजर उस पर्वत के समीप ही एक वटवृक्ष के नीचे तपस्या करते हुए तपस्वी पर पड़ी. नारद मुनि कुछ सोचते हुए उस तपस्वी के समीप पहुंचे और उसे देखने लगे.

नारद मुनि के तेज से वह तपस्वी अपनी तपस्या से जाग गया, तथा नारद मुनि के चरणों को छू कर उसने उन्हें प्रणाम किया.

ये भी पढ़े... मंगलवार को करें ये काम, बजरंग बली लगाएंगे बेड़ा पार !

इसके बाद वह तपस्वी नारद मुनि से बोला हे, देवऋषि नारद मुनि आप पर भगवान विष्णु की विशेष कृपा है. मुझे उनके तपस्या करते करते यहाँ कई वर्ष हो गए है अतः कृपया मुझे बतलाये की मुझे उनके दर्शन कब होंगे.

उस तपस्वी की बात सुनकर पहले तो नारद जी ने कुछ भी बताने से इंकार किया परन्तु उसके बार बार जिद करने पर वह बोले इस वटवृक्ष में तुम्हे जितनी भी टहनियाँ दिखाई दे रही है उतने ही वर्ष तुम्हे भगवान विष्णु के दर्शन प्राप्त करने में अभी और लगेंगे.

नारद जी की बात सुनकर उस तपस्वी को निराश हुई. उसने सोचा इतने वर्ष उसने घर रह कर गृहस्थी तथा भक्ति की होती है तो वह काफी पूण्य अर्जित कर चुका होता है. में बेकार में ही यहाँ तपस्या करने चले आ गया.

नारद जी उन्हें परेशान हैरान देखकर वहां से चले गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *