माँ दुर्गा के 11 आमोद्य दिव्य सिद्ध मन्त्र, तुरन्त होती है हर मनोकामना पूर्ण !

देवी भागवत में बतलाया गया है की इस सम्पूर्ण सृष्टि का सृजन, पालन एवं संहार करने वाली आदि शक्ति माता दुर्गा है. गौरी, काली, लक्ष्मी तथा सरस्वती ये सभी माँ दुर्गा के ही विभिन्न रूप है.

माँ दुर्गा का लोक कल्याणकारी रूप में जगत में विख्यात है. असुर दुर्गम के अत्याचारो से तीनो लोको को मुक्ति दिलाने के कारण ही माता का नाम देवी दुर्गा पड़ा.

कलियुग में माता का यही नाम प्रचलित है क्योंकि माता दुर्गा प्राणियों को दुर्गति से निकालती है. मां अपने भक्तों को हर विघ्न-बाधाओं से बचाती हैं. प्रसन्न होने पर सुख-समृद्धि व ऐश्वर्य का वरदान देती हैं.

शास्त्रों में कुछ ऐसे मंत्रों का वर्णन किया गया है जिनसे माता को आसानी से प्रसन्न करके उनसे अपनी इच्छानुसार आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है. जिसकी जैसी चाहत हो उसी अनुसार मंत्र का चुनाव करके माता की भक्ति करनी चाहिए.

धन संबंधी परेशानियों से बुरी तरह परेशान हैं वह अपनी गरीबी दूर करने के लिए नियमित माता के इस सिद्घ मंत्र का जप करें. दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजन्तोः. सवर्स्धः स्मृता मतिमतीव शुभाम् ददासि..

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *