भोलेनाथ शिव तुरन्तु करेंगे मनोकामना की पूर्ति, यदि इस श्रावण राशि अनुसार करे आप पूजा !

यह मान्यता है की श्रावण के पुरे महीने भगवान शिव धरती में ही अपने भक्तो के साथ निवास करते है. इस महीने यदि कोई भक्त सच्चे मन से भगवान शिव की आराधना करे तो भगवान शिव उसकी सभी मनोकामनाओ को पूर्ण कर देते है.

भगवान शिव अत्यंत भोले है तभी तो वे अपने भक्त की पुकार सुन शीघ्र ही उसकी पीड़ा हरते है.

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि आप अपने राशि के अनुसार भगवान शिव की भक्ति, अभिषेक व उनकी आरधना करे तो भगवान शिव का आशीर्वाद शीघ्र प्राप्त होता है तथा यह भगवान शिव तक अपनी बात पहुचने का सीधा मार्ग होता है.

आज हम आपको बताने जा रहे है की कैसे आप अपने राशि के अनुसार भगवान शिव की भक्ति एवम आरधना कर उन्हें प्रसन्न कर सकते है तथा उनकी शीघ्र कृपा प्राप्त कर सकते है.

1 . मेष राशि

पूजा विधि :- मेष राशि के जातको का स्वामी मंगल होता है. उन्हें भगवान शिव की पूजा के दौरान जल में गुड़ तथा शहद मिलाकर अभिषेक करना चाहिए . अभिषेक जब पूरा हो जाए तब शिव पर बिल्व पात्र चढाये तथा लाल चन्दन से उनके माथे पर तिलक करे.

मन्त्र :- ओम ममलेश्वराय नम:

लाभ :- शिव की भक्ति आपके भाग्य को मजबूत बनाएगी तथा आप नई उचाईयो को प्राप्त करेंगे.

2 . वृषभ राशि

पूजा विधि :- वृषभ राशि के जातको का स्वामी ग्रह शुक्र है इस राशि के लोगो को श्रावण महीने के प्रत्येक सोमवार को दही से शिव का जलाभिषेक करना चाहिए. इसके साथ ही भगवान शिव पर चावल , सफेद पुष्प, सफेद आक एवम चमेली का फूल अर्पित कर पूजा करनी चाहिए.

मन्त्र :- ओम भीमाय नम:’

लाभ :- धन से जुडी हर प्रकार की समस्या दूर होंगी तथा घर में शांति आएगी.

3 . मिथुन राशि

पूजा विधि :- इस राशि के जातको का स्वामी ग्रह बुध है. मिथुन राशि के लोगो को भगवान शिव का अभिषेक गन्ने के रस द्वारा करना चाहिए. भगवान शिव बेलपत्र के साथ, शमी के पत्र, साबुत मुंग, भांग दूर्वा आदि अर्पित करने चाहिए.

मन्त्र विधि :- ‘ओम भूतेश्वराय नम”

लाभ :- धन लाभ के साथ साथ मन समान में भी बढ़ोतरी होगी.

4 . कर्क राशि :-

पूजा विधि :- कर्क राशि का स्वामी चन्द्रमा होता है. इन जातको के लोगो को शिवलिंग का मीठे दूध एवम शुद्ध घी से जलाभिषेक करना चाहिए. भगवान शिव के शिवलिंग की पूजा के दौरान उन पर सफेद चन्दन का तिलक लगाते हुए साबुत अक्षत, चीनी, सफेद आक, चमेली, सफेद गुलाब का फूल चढ़ाएं.

मंत्र- ‘ओम महेश्वराय नम:’

लाभ :- आत्मबल तथा आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा हर विपदा दूर होगी.

5 . सिंह राशि

पूजा विधि :- सिंह राशि के जातको का स्वामी सूर्य होता है. तथा सिंह राशि के जातको को शिवलिंग पर जल में गुड़ तथा शहद मिलाकर अभिषेक करना चाहिए. इसके साथ ही भगवान शिव को गुड़ अथवा शहद मिला खीर अर्पित करना चाहिए.

मन्त्र :-‘ओम नम: शिवाय’ की एक माला जपें”

लाभ :- सभी कार्यो में विजयी प्राप्त होगा तथा सन्तोष मिलेगा.

6 . कन्या राशि

पूजा विधि :- कन्या राशि के जातको का स्वामी बुध है तथा इस जातको के लोगो को भगवान शिव की पूजा के दौरान उन पर गन्ने का रस अर्पित करना चाहिए. शिवलिंग पर बेलपत्र, बेल, धतूरा, दूर्वा और पान भी अर्पित कर सकते है.

मन्त्र :- ओम त्रयंबकाय नम:’ का जाप करे.

लाभ :- दाम्पत्य जीवन सुखमय होगा तथा व्यापार में लाभ मिलेगा.

7 . तुला राशि

पूजा विधि :- तुला राशि के जातको का स्वामी शुक्र है तथा इस जातको के लोगो को भगवान शिव के शिवलिंग पर सुगन्धित तेल, इत्र, एवम दूध से अभिषेक करना चाहिए. इसके साथ ही भगवान शिव को खीर, मिश्री, दही आदि का भोग लगाना चाहिए.

सफेद आक, चमेली तथा सफेद गुलाब से भगवान शिव की पूजा करे.

मन्त्र :- शिवाष्टक तथा महामृत्युंजय मन्त्र का जाप करे .

लाभ :- सारे बिगड़े काम बनेगे एवम घर में सुख शान्ति आएगी.

8 . वृश्चिक राशि

पूजा विधि :- इस राशि का ग्रह स्वामी शुक्र है . इस राशि के लोगो को शिवलिंग पर जल में शहद, गुड़ तथा पंचामृत मिलाकर अभिषेक करना चाहिए. इसके अलावा उन पर लाल पुष्प , गेहू अर्पित कर लाल चन्दन का तिलक लगाना चाहिए.

मन्त्र :- ओम विश्वरुपिणे नम:

लाभ :- व्यापार में आचनक लाभ मिलेगा अथवा पदोन्नति होगी, धन लाभ प्राप्त होगा.

9 .धनु राशि

पूजा विधि : -धनु राशि का स्वामी बृहस्पति ग्रह है इस राशि के जातक दूध में हल्दी और शहद मिलाकर भगवान शिव का अभिषेक करें. पीले चंदन का तिलक करते हुए, पीले गेंदे के फूल अर्पित करें. गुड़, चने की दाल एंव पीली मिठाई का भोग लगाएं.

मंत्र- शिव पंचाक्षर स्तोत्र एंव ‘ओम रामेश्वराय नम:’ मंत्र का जाप अधिक से अधिक करें.

लाभ :- भगवान शिव की भक्ति समाज में यश कृति बढ़ाएगी तथा सभी रोग दूर होंगे.

10 . मकर राशि :-

पूजा विधि :- मकर राशि के लोगो का ग्रह स्वामी शनिदेव है तथा इन जातको के लोगो को शिवलिंग का अभिषेक तिल के तेल अथवा नारियल के पानी से करना चाहिए. तथा भगवान शिव पर चमेली, भांग, बेलपत्र, धतूरा आदि अर्पित करे व अष्टगन्धा से उन पर तिलक करे.

मन्त्र: -ओम पार्वतीनाथाये नम:’ मंत्र का अधिक से अधिक जाप करना चाहिए.

लाभ :- घर की सभी नकरात्मक ऊर्जा दूर होगी व परिवार में सुख समृद्धि आएगी.

11 . कुम्भ राशि :-

पूजा विधि :- कुम्भ राशि के लोगो का ग्रह स्वामी शनिदेव है इस राशि के लोगो को शिवलिंग का अभिषेक नारियल के पानी, तिल अथवा सरसो के रस व गन्ने के रस से करना चाहिए. भगवान शिव की पूजा के दौरान उन पर दूर्वा, भांग, बेलपत्री तथा धतूरा आदि अर्पित करे.

मन्त्र :- ओम पार्वतीनाथाये नम:’ मंत्र का अधिक से अधिक जाप करना चाहिए.

लाभ :- शत्रु पराजित होंगे तथा हर कार्यो में सफलता प्राप्त होगी.

12 . मीन राशि :-

पूजा विधि :- मीन राशि का स्वामी ग्रह बृहस्पति है. इस राशि के लोगो शिवलिंग पर दूध में गुड़ अथवा शहद मिलाकर भगवान शिव का अभिषेक करना चाहिए. तथा गेहू पिली सरसो अर्पित करते हुए उन्हें नागकेसर की माला पहनाये.

मन्त्र :- ओम सदाशिवाय नम:’ का जाप करे.

लाभ :- सर्वकार्य सम्पन्न होते है तथा धन लाभ मिलता है.

You May Also Like