सूपर्णखा थी मीनाक्षी नाम की एक सुन्दर कन्या, ब्र्ह्मा के वरदान से प्राप्त हुए थे अगले जन्म में श्री राम पति के रूप में !

सूपर्णखा को रामायण की कथा में एक दुष्ट राक्षसी के रूप में दिखाया गया है, पर शायद ही आप सूपर्णखा के वास्तविक सच्चाई को जानते होंगे. वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण में सूपर्णखा को एक डरावनी एवं पागल महिला के रूप में प्रस्तुत किया गया है.

परन्तु सूपर्णखा से जुडी बहुत से ऐसी बाते थी जिनका वाल्मीकि रामायण में कहि कोई जिक्र नहीं मिलता है .

सूपर्णखा के पिता का नाम मह्रिषी विश्रवा था तथा उनकी माता कैकसी थी. महापंडित रावण सूपर्णखा के ज्येष्ठ भ्राता थे , तथा वह अपने भाइयो में सबसे छोटी व उनकी एकमात्र बहन थी. रामायण से संबंधित अनेको हिन्दू धार्मिक ग्रंथो में बताया गया है की सूपर्णखा अपनी माता के समान ही बहुत सुन्दर थी.

सूपर्णखा की आँखे मछली के समान आकर्षक थी, इसी कारण बचपन में उसके माता पिता ने उसका नाम मीनाक्षी रखा था.

सूपर्णखा से जुड़े कुछे विचित्र रहस्य :-

You May Also Like