आश्चर्य में डाल देगा कौवे से जुड़ा यह पौराणिक रहस्य, आखिर क्या रिश्ता है इसका यमराज के साथ !


ये तो आपको याद है होगा की जब हम छोटे थे तो हमारे छत पर बैठे काले कौवे को देख हम उसे कौआ मामा कह कर पकड़ने लगते थे. एक अन्य मान्यता यह भी हिन्दू धर्म में प्रचलित है की जब किसी के घर के आसपास या उसके छत के ऊपर काला कौआ काँव काँव करता है तो यह संकेत होता की उसके घर कोई मेहमान आने वाले है. 

ये सब थी मान्यताओ की बात परन्तु क्या आपने कभी इस ओर ध्यान दिया ही की आखिर क्यों इस पक्षी का वर्णन अक्सर हमारे पुराणों एवम ग्रंथो में आता है. आखिर क्या सम्बन्ध है कौवे का हिन्दू धर्म से. 

यहां तक की जब हम अपने पितरो का श्राद इत्यादि करते है तब भी हम इस पक्षी को अहमियत देते है तथा पितरो के भोजन के साथ-साथ कौए के भोजन के लिए भी अलग से थाली निकालते है.

आइये जानते है की आखिर क्या महत्व है इस विचित्र पक्षी का हमारे धर्म में. 

दरअसल पुराणों के अनुसार यह वर्णित है की कौआ यमराज का दूत है. और जब हम श्राद के अवसर पर अपने पितरो को अन्न अर्पित करते है तथा कौवे के लिए भी अलग से अन्न की थाली लगते है तो कौआ यमराज का दूत होने के कारण यमलोक में जाकर हमारे पूर्वजो को उनकी सन्तान एवम उनकी स्थिति के बारे में अवगत कराता है.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *