कंगाल को भी बना सकता है मालामाल शनि देव का यह तांत्रिक उपाय !

हिन्दू धर्म ग्रन्थों के अनुसार शनिदेव को दण्डाधिकारी बतलाया गया है, मनुष्य के हर अच्छे बुरे कर्मो के अनुसार शनिदेव उसे फल देते है. यदि किसी व्यक्ति से शनिदेव कुपित हो जाए अथवा उनकी टेढ़ी नजर मनुष्य पर पढ़ जाय तो उसे राजा से रंक बनने में देर नहीं लगती, वही यदि किसी मनुष्य पर शनिदेव की कृपा हो जाए तो वह व्यक्ति मालामाल हो जाता है.

जिस किसी व्यक्ति पर शनिदेव की कुपित दृष्टि एवम साढ़े साती रहती है उसे अनेक प्रकार के दुःख आकर घेर लेते है. धर्म ग्रन्थों के अनुसार शनिवार के दिन शनि देव को प्रसन्न करने के लिए किया गया विशेष उपाय शीघ्र फल प्रदान करता है.

आज हम आपको शनिदेव से जुड़े कुछ अचूक एवम प्रभावकारी उपाय बताने जा रहे है, जिनसे न केवल आपके सभी कष्ट दूर हो जाएंगे बल्कि आपकी किस्मत भी चमक जायेगी. शनि देव के ये उपाय यदि कोई व्यक्ति सच्चे श्रद्धा के साथ करे तो यह तुरन्त असर दिखाते है.

1 . शनिवार या शनि जयंती के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त होकर कुश (एक प्रकार की घास) के आसन पर बैठ जाएं. सामने शनिदेव की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें व उसकी पंचोपचार से विधिवत पूजन करें. इसके बाद रूद्राक्ष की माला से नीचे लिखे किसी एक मंत्र की कम से कम पांच माला जप करें तथा शनिदेव से सुख-संपत्ति के लिए प्रार्थना करें. यदि प्रत्येक शनिवार को इस मंत्र का इसी विधि से जप करेंगे तो शीघ्र लाभ होगा.

वैदिक मंत्र
ऊँ शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये शन्योरभिस्त्रवन्तु न:.

लघु मंत्र
ऊँ ऐं ह्लीं श्रीशनैश्चराय नम:.

2 . प्रत्येक शनिवार को उपवास रखे तथा सूर्यास्त के पश्चात हनुमान जी की पूजा करे. हनुमान जी के पूजन में सिंदूर, काले तिल का तेल तथा नीले रंग का पुष्प उन पर चढाये साथ ही काले तिल के तेल के दीपक द्वारा ही उनकी पूजा करे.

3 . शनिवार के दिन बंदरो एवं काले कुत्तो को भोजन कराने से भी शनि के कुदृष्टि का प्रभाव कम होता है अथवा काले घोड़े की नाल या नाव में लगी कील का छल्ला धारण करने से भी शनि की कुदृष्टि का प्रभाव व्यक्ति पर नही पड़ता.

4 . यह धन प्राप्ति का अचूक उपाय एवं प्रभावी उपाय है इस उपाय के अनुसार शुक्रवार के दिन काले चने को पानी में भीगा दे. शनिवार को ये चने, कच्चा कोयला, हल्की लोहे की पट्टी को एक काले कपड़े में बांधकर मछलियों के तालाब में डाल दे. यह उपाय सिर्फ एक साल तक करना है परन्तु ध्यान रखे की इस पुरे साल आप मछलियों का सेवन गलती से भी न करे .

5 . शनिवार के दिन अपने दाहिने हाथ के नाप का उन्नीस हाथ का लम्बा धागा लेकर उसको बटकर गले में माला की तरह पहन ले. इस प्रयोग से शनि का प्रकोप शीघ्र ही ख़त्म हो जाता है.

6 . चोकरयुक्त वाले आटे की रोटी लेकर एक रोटी को घी तथा दूसरे को तेल में चपोर ले. दोनों रोटी को एक एक कर काली गाय को खिला दे इस उपाय द्वारा शनि देव शीघ्र प्रसन्न होते है तथा व्यक्ति को धन की प्राप्ति होती है.

7 . सवा किलो का
ला कोयले ले तथा उसे एक कील के साथ कपडे में लपेट ले तथा इसे अपने सर में घुमा कर किसी नदी में फेक दे. इससे घर में फैली दरिद्रता दूर होती है और माता लक्ष्मी का घर में आगमन होता है.

8 . शनिवार के दिन एक कांसे का बर्तन ले तथा इसमें काले तिल का तेल डालकर उसमे अपना चेहरा देखे तथा इसके पश्चात इस तेल को किसी डब्बे में डाल, काला कोयला, तिल, फल आदि को एक काले कपडे में डाल शनि का दान लेने वाले व्यक्ति को दान कर दे.

9 . शमी वृक्ष की जड़ को विधि-विधान पूर्वक घर लेकर आएं. शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या शनि जयंती के दिन किसी योग्य विद्वान से अभिमंत्रित करवा कर काले धागे में बांधकर गले या बाजू में धारण करें. शनिदेव प्रसन्न होंगे तथा शनि के कारण जितनी भी समस्याएं हैं, उनका निदान होगा.

10 . यदि कोई व्यक्ति काली गाय की सेवा करता है तो इससे शनि देव बहुत प्रसन्न होते है. शनिवार के दिन किसी काली गाय के सर पर तिलक करे तथा इसके पश्चात उसके सींगो पर रोली बांधे व फिर गाय की धुप आदि दिखाकर पूजा करे. गाय की परिक्रमा कर गाय को चार बूंदी के लड्डू खिलाये.

You May Also Like