जानिए कैसे करे शिवलिंग पूजा और करे महाकाल को प्रसन्न

shivling puja at home in hindi

shivling puja at home,shivling puja at home in hindi,shivling sthapana at home

shivling puja at home:

महादेव को सबसे श्रेष्ट देव कहा जाता है। इनकी पूजा करने से पूर्व इनके पुत्र श्री गणेश की पूजा की जाती है । शिव जी को अगर खुश करना है तो उनके पूजा करते समय उनकी पसंद के चीजो का चढ़ावा चढ़ाना चाहिए जैसे की भांग, धतुरा, बेलपत्र, दूध आदि । शिव जी की पूजा पूरी विधि के साथ करने पर मन चाही फल की प्राप्त होती है वहीँ शिव पूजा में शिव मंत्र का अपना हीं एक अलग महत्व होता है । तो चलिए जानते है शिव पूजा विधि को और शिव पूजा के दौरान पढ़े जाने वाले मंत्र को ।

Shivling puja vidhi samagri:

  1. भांग, बेल पत्र, जल से भरा लोटा
  2. दीप, गंगाजल, धूप, इत्र , धतुरा
  3. फल, फूल, पांच मेवा
  4. चंदन (sandal) और रोली
  5. हल्दी और श्रृंगार के लिए अष्टगंध
  6. नारियल , पंचामृत (अभिषेक के लिए)

shivling puja at home in hindi :

ये भी पढ़े... मंगलवार को करें ये काम, बजरंग बली लगाएंगे बेड़ा पार !

  1. पहले पूजा की सारी सामग्री को ले कर शिवलिंग के समक्ष बैठ जाएँ ।
  2. शिवलिंग की पूजा प्रारंभ करने से पूर्व गणेश जी की पूजा करें ।
  3. संकल्प ले लेने के बाद शिवलिंग के समक्ष दीप जलाएं और फिर शिवलिंग पर जल चढ़ाये ।
  4. फिर से शिवलिंग पर जल चढ़ाए ।
  5. अब गंगाजल चढ़ाएँ और फिर इत्र छिड़के ।
  6. उसके बाद अष्टगंध द्वारा शिवलिंग का श्रृंगार करें ।
  7. फिर शिवलिंग पर हल्दी, चन्दन और रोली चढ़ाएँ ।

shiv mantra shivling sthapana at home :

दर्शनं बिल्वापत्रस्य स्पर्शनं पापनाशनम।

अघोर्पापसन्हाराम बिल्वपत्रं शिवार्पनाम ||

ये भी पढ़े... घर के मंदिर में कभी भी ना करें ये गलतिया !

अब शिवलिंग पर फूल व माला अर्पित करे । फूल चढ़ाने समय इस मंत्र को पढ़े :

नमः पार्याय चावार्याय च नमः प्रतरणाय चोत्तरणाय च ।

नमस्तीर्थ्याय च कूल्याय च नमः शष्प्याय च फेन्याय च।।

  • अब भांग,धतुरा चढ़ाएँ ।
  • फिर नारियल और मेवे चढ़ाएँ ।
  • अब शिवलिंग को धुप दिखाएँ ।
  • अब खड़े हो कर दीप दिखाते हुए शिव चालीसा पढ़े ।
  • उसके बाद शिव जी की आरती भी गाएँ ।
  • जब शिव जी की आरती समाप्त हो जाए तो

ह्रीं ॐ नमः शिवाय ह्रीं”

  • का 108 बार जाप करे।
  • जाप हो जाने के हाँथ जोड़ कर उनसे prayer करे और कहें “हे प्रभु मै ये पूजा और जाप आपको समर्पित करता/करती हूँ कृपया मेरी पूजा को स्वीकार करे” और उसके बाद जितना हो सके इस मंत्र का जाप करे
  • अब माता पारवती और फिर नंदी की पूजा करे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *