diwali ki puja vidhi 2017 in hindi – दिवाली की पूजा विधि 2017

दिवाली पूजन में सामग्री का महत्व,diwali pooja vidhi, ऐसे करें दिवाली 2017 पूजन दिवाली शुभ मुहूर्त 2017,लक्ष्मी पूजन 2017 की सरल विधि, diwali ki puja vidhi 2017 in hindi, दीपावली पूजन सामग्री, दीपावली पूजन की विधि, दिवाली पूजा विधि 2017, लक्ष्मी पूजा कैसे करे, लक्ष्मी पूजन का समय, लक्ष्मी गणेश पूजा विधि, लक्ष्मी पूजन कसे करावे, लक्ष्मी पूजन विधि

Aane vali diwali ki puja vidhi 2017 kab ki hai? Aane vali diwali ki puja vidhi 2017 kab ki hai?Remove term: दिवाली पूजा विधि 2017 दिवाली पूजा विधि 2017Remove term: दीपावली पूजन की विधि दीपावली पूजन की विधिRemove term: दीपावली पूजन सामग्री दीपावली पूजन सामग्रीRemove term: लक्ष्मी गणेश पूजा विधि लक्ष्मी गणेश पूजा विधिRemove term: लक्ष्मी पूजन कसे करावे लक्ष्मी पूजन कसे करावेRemove term: लक्ष्मी पूजन का समय लक्ष्मी पूजन का समयRemove term: लक्ष्मी पूजन विधि लक्ष्मी पूजन विधिRemove term: लक्ष्मी पूजा कैसे करे लक्ष्मी पूजा कैसे क

diwali ki puja vidhi 2017 in hindi

दिवाली की पूजा विधि  2017.अधिकांश हिंदू परिवार अपने घरों और कार्यालयों को सदाबहार फूलों से सजाते हैं और दिवाली  पूजा  के दिन अशोक, आम और केला के पत्तों को छोड़ते हैं। घर के मुख्य प्रवेश द्वार के दोनों तरफ मंगलिक कलश को बिना खड़ी नारियल के साथ कवर करने के लिए शुभ माना जाता है।

how to do laxmi puja at home in diwali 2017

दिवाली पूजा की तैयारी के लिए, एक को एक ऊर्ध्वाधर मंच पर दाहिने हाथ में एक लाल कपड़ा रखना चाहिए और रेशम कपड़े और आभूषणों के साथ उन्हें प्रसन्न करने के बाद देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्तियों को स्थापित करना चाहिए। इसके बाद, नवग्रह देवताओं को स्थापित करने के लिए एक ऊर्ध्वाधर मंच पर बाएं हाथ की तरफ थोड़ी देर का कपड़ा रखना चाहिए।  दिवाली की  पूजा विधि  2017  पे सफेद कपड़ा पर नवग्रह स्थापित करने के लिए और लाल कपड़ा पर गेहूं या गेहूं के आटे का सोलह स्लॉट तैयार करने के लिए आपको अक्षत (अबाधित चावल) के नौ स्लॉट्स तैयार करना चाहिए। दिवाली पूजा विधि 2017 पर वर्णित अनुसार एक को पूर्ण पूजा के साथ लक्ष्मी पूजा करना चाहिए।

दिवाली के दिन लोगों को सुबह जल्दी उठना चाहिए और अपने पूर्वजों को श्रद्धांजलि अर्पित करना चाहिए और परिवार के देवताओं की पूजा करना चाहिए। अमावस्या दिवस होने के कारण लोग अपने पूर्वजों के लिए श्रद्ध भी करते हैं। परंपरागत रूप से, एक दिन लंबे समय तक उपवास रखने के बाद ज्यादातर पूजा की जाती है। इसलिए, देवी लक्ष्मी के भक्त लक्ष्मी पूजा के दिन एक दिन का उपवास रखते हैं। शाम को लक्ष्मी पूजा के बाद तेजी से टूट जाता है।

Aane vali diwali kab ki hai? 

दीवाली 2017(diwali 2017) कब की है? हालांकि,चंद्र गतिविधि पर निर्भर करता है कि तारीखें बदल सकती हैं। इस 2017 कैलेंडर के अनुसार,दिवाली 2017 दिनांक गुरुवार को है,19(oct) अक्टूबर की है। इस दिवाली(2017)
पे भगवान आपको सोख और समर्धि दे अप्पकी हर मनोकामना पूरी हो.

Diwali 2017 pooja vidhi 

दीपावली 2017 diwali (2017) का पावन त्यौहार इस बार  19 (oct)अक्टूबर 2017  को मानाया जाएगा. यह हम हिन्दुओ के मुख्य त्योहारो में से एक है तथा ऐसी मान्यता है की इसी दिन भगवान श्री राम अहंकारी रावण का वध कर देवी सीता एवम अनुज लक्ष्मण के साथ वापस अयोध्या लोटे थे.

उनके अयोध्या आगमन पर अयोध्या वासियो ने खुसी से अपने अपने घरो में दीपक जलाये थे तथा हर तरफ खुसिया ही खुसिया थी. उसी दिन के उपलक्ष्य में आज भी हम दीपो का त्यौहार यानी दीपावली मनाते है. दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजा के विशेष महत्व माना जाता है.

दिवाली की पूजा विधि 2017

स्कन्द पुराण के अनुसार कार्तिक अमावस्या के दिन प्रातः काल स्नान आदि से निर्वित होकर सभी देवो का ध्यान कर उनकी पूजा करनी चाहिए. यदि सम्भव हो सके तो दिन का भोजन नहीं करना चाहिए. diwali ki puja vidhi 2017 का यह समय भोट शुभ होता है.

diwali ki puja vidhi 2017 शाम के समय भगवान गणेश एवम लक्ष्मी की नयी प्रतिमा पूजा घर में रखे. एक चौकी लेकर उसमे स्वस्तिक का निशान बनाये तथा उसके ऊपर थोड़ा चावल छिड़कर भगवान गणेश एवम देवी लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित करे.

diwali ki puja के समय भगवान के मूर्तियों के समीप ही एक जल से भरा लोटा रखे तथा उसमे थोड़ा सा गंगा जल मिला ले. इसके पश्चात शुद्धि मन्त्र का उच्चारण करने के साथ उस जल को पहले भगवान की प्रतिमाओ में छिड़के फिर परिवार के सदस्यो एवम घर में जल छिड़ कर शुद्धिकरण करे.

यह भी पढ़ें: जनये आने वाले 8 ओक्टबर करवा चौथ 2017 को कैसे करे पूजा विधि, व्रत विधि ,व्रत मुहरात

diwali ki puja vidhi 2017 की सामग्री गुड़, चन्दन, खिल, बताशे, मिठाई, पंचामृत, दुर्ग, फल, फूल, चौकी, गंगा जल आदि के साथ पुरे विधि विधान से भगवान की पूजा करनी चाहिए तथा साथ देवी सरस्वती, भगवान् विष्णु एवम कुबेर देव का भी विधि विधान से पूजा सम्पन्न करे.

11 दीपक पूजा के दौरान जलाये जिनमे 10 छोटे दीपक तथा एक बड़ा दीपक होना चाहिए. बड़ा दीपक पूजा घर में ही दीप्यमान रहने थे तथा 10 दीपको को अपने दरवाजे के चोखट एवम गेट में लगा दे.

दिवाली की  पूजा विधि  2017 का मुहूर्त :-

दीपावली की  पूजा विधि  2017 के दिन प्रदोष काल का मुहूर्त देवी लक्ष्मी के पूजन के लिए बहुत ही शुभ माना गया है. इस काल में देवी लक्ष्मी की पूजा अर्चना द्वारा उन्हें शीघ्र प्रसन्न किया जाता है तथा माता की कृपा उनके भक्तो पर शीघ्र बरसती है.

इस दौरान की गई पूजा घर में सुख सम्पति एवम धन दौलत लेकर आती है.

इस बार की दिवाली की  पूजा विधि  2017 का टाइम कुछ इस प्रकार से है-

19:11 से 20:16 अवधि = 1 घंटे 5 मिनट प्रदोष काल = 17:43 से 20:16 वृषभ काल = 1 9 11 से 21:06

दीपावली की  पूजा विधि  2017 महालक्ष्मी मन्त्र :-

पूजा के दौरान महालक्ष्मी के इस मन्त्र का नित्य उच्चारण अवश्य करे.

ॐ श्रीं हीं श्रीं महालक्ष्मयै नमः

मेरे  प्रभु  की पूरी टीम आपको खुश और समृद्ध दिवाली 2017 की शुभकामनाएं देता है.

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *