भगवान विष्णु का अनोखा अवतार नहीं जनता कोई भी इन्हें, इनके बारे में जान आप भी हो जाओगे हैरान !

lord vishnu incarnation, vishnu avatar kalki, lord vishnu 24 incarnations, vishnu avatar stories in hindi, vishnu ke 10 avatar in hindi name, vishnu ke dashavatar ke naam, vishnu ke dashavatar ke naam, kalki avatar of lord vishnu in hindi, भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार, भगवान विष्णु के 24 अवतार, भगवान विष्णु का जन्म, भगवान विष्णु मंत्र, विष्णु मंत्र स्तुति

lord vishnu incarnation, vishnu avatar kalki, lord vishnu 24 incarnations, vishnu avatar stories in hindi, vishnu ke 10 avatar in hindi name, vishnu ke dashavatar ke naam, vishnu ke dashavatar ke naam, kalki avatar of lord vishnu in hindi, भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार, भगवान विष्णु के 24 अवतार, भगवान विष्णु का जन्म, भगवान विष्णु मंत्र, विष्णु मंत्र स्तुति

भगवान धन्वंतरि आयुर्वेद के आदि प्रवर्तक एवं स्वास्थ्य के अधिष्ठाता देवता होने के कारण विश्वविख्यात है . स्वास्थ्य या आरोग्य मानव जीवन का आधार है . आयुर्वेद -आयुष्य का अर्थात जीवन का विज्ञान है . जीवन के हित अहित सुख दुःख का सूक्ष्म विवेचन होने से आयुर्वेद मानव जाति का परम अभीष्ट है . वह पुरुषार्थ चतुष्टय अर्थात धर्म ,अर्थ , काम और मोक्ष का साधन होने से कल्याणमयी है . सभी के लिए जानने योग्य है . इसी आयुर्वेद के ज्ञान से सम्पूर्ण विश्व को आलोकित करने वाले भगवान धन्वन्तरी न सिर्फ चिकित्सक वर्ग अपितु सम्पूर्ण मानव जाति के आराध्य देवता है .

सनातन धर्म के अनुसार भगवान विष्णु ने जगत त्राण हेतु 24 अवतार धारण किये है . जिनमे भगवान धन्वंतरी 12वे अंशावतार है अर्थात आप साक्षात विष्णु के श्रीहरी रूप है . इनके प्रादुर्भाव का रोचक वृतांत पुरानो में मिलता है . तदनुसार एक समय अवसर पाकर असुरो ने देवताओ को सताना आरम्भ कर दिया . सुखी देवगण अपने राजा इंद्र के सम्मुख उपस्थित हुए और अपनी व्यथा कही . इंद्र प्रमुख देवताओ के साथ ब्रह्माजी की शरण में पहुचे और उनसे इस परेशानी को दूर करने हेतु निवेदन किया .

ये भी पढ़े... मंगलवार को करें ये काम, बजरंग बली लगाएंगे बेड़ा पार !

ब्रह्माजी ने उन्हें भगवान विष्णु के पास जाने का परामर्श दिया तब सभी इन्द्रादि देवगण भगवान विष्णु के समक्ष उपस्थित हुए और अपना दुःख उन्हें कह सुनाया . तब द्रवित होकर भगवान विष्णु ने असुरो के शमन और देवगणों के अमरत्व के लिए विचार विमर्श किया . देवो और दानवो की सामयिक संधि कराकर समुद्र मंथन की योजना बनाई . एतदर्थ मन्दराचल पर्वत को मंथन दंड , हरि रूप कुर्म को दण्ड आधार तथा वासुकि नागराज को रस्सी तथा समुद्र को नवनीत पात्र बनाया . देवो और दानवो ने मिलकर समुद्र का मंथन किया जिसके फलस्वरूप निम्न 14 रत्न निकले – लक्ष्मी ,कौस्तुभ मणि , कल्प वृक्ष ,मदिरा , अमृत कलश धारी धन्वन्तरी , अप्सरा ,उच्सश्र्वा नामक घोडा , विष्णु का धनुष ,पांचजन्य शंख ,विष , कामधेनु , चन्द्रमा और ऐरावत हाथी .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *