maha shivratri 2017 ki puja vidhi

शिवरात्रि 2017 shivratri 2017

, maha shivratri 2017 ki puja vidhi, when is mahashivratri in 2016, maha shivratri 2017 isha, sawan shivratri 2017, shivratri 2016 sawan, ugadi 2017, maha shivaratri 2017, maha shivratri 2017 mauritius, kawad jal date 2017, sawan shivratri vrat vidhi in hindi, shivratri vrat food in hindi, masik shivratri vrat vidhi in hindi, shivratri fast what to eat, shivratri puja time, shiva puja at home, how to do shivaratri fasting, shivaratri pooja

maha shivratri 2017 ki puja vidhi महाशिवरात्रि 2017 की पूजा विधि

महाशिवरात्रि  maha shviratri ki puja vidhi हम हिन्दुओ का एक प्रमुख त्यौहार है, और महादेव शिव तथा उनके भक्तो का प्रिय पर्व भी. पुराणों के अनुसार महादेव शिव इसी दिन ब्रह्मा जी से रूद्र के रूप में अवतरित हुए थे. इसके साथ प्रलय के समय भी भगवान शिव इसी दिन तांडव नृत्य करते थे और अपने तीसरे आँख से प्रलय लाते थे.

अनेक स्थानों पर यह भी मान्यता है इस दिन महादेव शिव maha shivratri 2017 ki puja vidhi का जगत जननी देवी पार्वती के साथ विवाह हुआ था.

व्रती दिनभर शिव मंत्र (ऊं नम: शिवाय) का जाप करें तथा पूरा दिन निराहार रहें। (रोगी, अशक्त और वृद्ध दिन में फलाहार लेकर रात्रि पूजा कर सकते हैं।) शिवपुराण में रात्रि के चारों प्रहर में शिव पूजा का विधान है। शाम को स्नान करके किसी शिव मंदिर में जाकर अथवा घर पर ही पूर्व maha shivratri 2017 ki puja vidhi या उत्तर दिशा की ओर मुंह करके त्रिपुंड एवं रुद्राक्ष धारण करके पूजा का संकल्प इस प्रकार लें-

ममाखिलपापक्षयपूर्वकसलाभीष्टसिद्धये शिवप्रीत्यर्थं च शिवपूजनमहं करिष्ये

व्रती को फल, फूल, चंदन, बिल्व पत्र, धतूरा, धूप व दीप से रात के चारों प्रहर पूजा करनी चाहिए साथ ही भोग भी लगाना चाहिए। दूध, दही, घी, शहद और शक्कर से अलग-अलग तथा सबको एक साथ मिलाकर पंचामृत से शिवलिंग को स्नान कराकर जल से अभिषेक करें। maha shivratri 2017 ki puja vidhi चारों प्रहर के पूजन में शिवपंचाक्षर (नम: शिवाय) मंत्र का जाप करें। भव, शर्व, रुद्र, पशुपति, उग्र, महान, भीम और ईशान, इन आठ नामों से फूल अर्पित कर भगवान शिव की आरती व परिक्रमा करें।

अगले दिन (8 मार्च, मंगलवार) सुबह पुन: स्नान कर भगवान शंकर की पूजा करने के बाद व्रत का समापन करें।

maha shivratri 2017 ki puja vidhi

रात्रि पूजा के शुभ मुहूर्त

निशीथ काल पूजा का मुहूर्त- रात 12.30 से 01.05 बजे तक
पहले प्रहर की पूजा- शाम 06:42 से 09:45 बजे तक
दूसरे प्रहर की पूजा- रात 09:45 से 12:50 बजे तक
तीसरे प्रहर की पूजा- रात 12:50 से 03:50 बजे तक
चौथे प्रहर की पूजा- रात 03:50 से सुबह 06:50 बजे तक

 

यह भी पढ़ेइस शिवरात्री पर होगा विश्व में सबसे बड़े ‘शिवजी के चेहरे’ का अनावरण 

महाशिवरात्रि व्रत की कथा इस प्रकार है-

किसी समय वाराणसी के जंगल में एक भील रहता था। उसका नाम गुरुद्रुह था। वह जंगली जानवरों का शिकार कर अपना परिवार पालता था। एक बार शिवरात्रि पर वह शिकार करने वन में गया। उस दिन उसे दिनभर कोई शिकार नहीं मिला और रात भी हो गई।

maha shivratri 2017 ki puja vidhi तभी उसे वन में एक झील दिखाई दी। उसने सोचा मैं यहीं पेड़ पर चढ़कर शिकार की राह देखता हूं। कोई न कोई प्राणी यहां पानी पीने आएगा। यह सोचकर वह पानी का बर्तन भरकर बिल्ववृक्ष पर चढ़ गया। उस वृक्ष के नीचे शिवलिंग स्थापित था।

थोड़ी देर बाद वहां एक हिरनी आई। गुरुद्रुह ने जैसे ही हिरनी को मारने के लिए धनुष पर तीर चढ़ाया तो बिल्ववृक्ष के पत्ते और जल शिवलिंग पर गिरे। इस प्रकार रात के प्रथम प्रहर में अंजाने में ही उसके द्वारा शिवलिंग की पूजा हो गई। तभी हिरनी ने उसे देख लिया और उससे पूछा कि तुम क्या चाहते हो। maha shivratri 2017 ki puja vidhi  वह बोला कि तुम्हें मारकर मैं अपने परिवार का पालन करूंगा। यह सुनकर हिरनी बोली कि मेरे बच्चे मेरी राह देख रहे होंगे। मैं उन्हें अपनी बहन को सौंपकर लौट आऊंगी। हिरनी के ऐसा कहने पर शिकारी ने उसे छोड़ दिया।

थोड़ी देर बाद उस हिरनी की बहन उसे खोजते हुए झील के पास आ गई। शिकारी ने उसे देखकर पुन: अपने धनुष पर तीर चढ़ाया। इस बार भी रात के दूसरे प्रहर में बिल्ववृक्ष के पत्ते व जल शिवलिंग maha shivratri 2017 ki puja vidhi पर गिरे और शिवलिंग की पूजा हो गई। उस हिरनी ने भी अपने बच्चों को सुरक्षित स्थान पर रखकर आने को कहा।

शिकारी ने उसे भी जाने दिया। थोड़ी देर बाद वहां एक हिरन अपनी हिरनी को खोज में आया। इस बार भी वही सब हुआ और तीसरे प्रहर में भी शिवलिंग की पूजा maha shivratri 2017 ki puja vidhi हो गई। वह हिरन भी अपने बच्चों को सुरक्षित स्थान पर छोड़कर आने की बात कहकर चला गया। जब वह तीनों हिरनी व हिरन मिले तो प्रतिज्ञाबद्ध होने के कारण तीनों शिकारी के पास आ गए। सबको एक साथ देखकर शिकारी बड़ा खुश हुआ और उसने फिर से अपने धनुष पर बाण चढ़ाया, जिससे चौथे प्रहर में पुन: शिवलिंग की पूजा हो गई।

इस प्रकार गुरुद्रुह दिनभर भूखा-प्यासा रहकर रात भर जागता रहा और चारों प्रहर अंजाने में ही उससे शिव की पूजा हो गई, जिससे शिवरात्रि का व्रत संपन्न हो गया। maha shivratri 2017 ki puja vidhi इस व्रत के प्रभाव से उसके पाप तत्काल ही भस्म हो गए। पुण्य उदय होते ही उसने हिरनों को मारने का विचार त्याग दिया।

तभी शिवलिंग से भगवान शंकर प्रकट हुए और उन्होंने गुरुद्रुह को वरदान दिया कि त्रेतायुग में भगवान राम तुम्हारे घर आएंगे और तुम्हारे साथ मित्रता करेंगे। तुम्हें मोक्ष भी प्राप्त होगा। इस प्रकार अंजाने में किए गए शिवरात्रि व्रत से भगवान शंकर ने शिकारी को मोक्ष प्रदान कर दिया।

maha shivratri 2017 ki puja vidhi

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *