vastu shastra colour tips for home in hindi – वास्तु अनुशार इस तरीके से करे अपने घर में रंग

vastu shastra in hindi and vastu tips for home in hindi. vastu shastra color home, color vastu shastra in hindi, color in vastu shastra,

vastu shastra colors for home, vastu shastra colors for kitchen, vastu shastra colors for bedroom, vastu shastra colors for office, vastu shastra colors for hall, vastu shastra colors for home exterior, vastu shastra colors for living room, vastu shastra colors for study room, vastu shastra colors for pooja room, vastu shastra colors for house, vastu shastra and colors, vastu shastra bedroom color,

vastu shastra colour tips for home in hindi:

आज हम आपको बताएँगे की वास्तु अनुसार किस तरीके से आप रंगों को उपयोग कर सकते है(Vastu shastra color). दोस्तों रंग हमारे जीवन में बहुत ही अधिक महत्वपूर्ण है. ऐसा बताया गया है की जब ब्रह्मा जी ने सृष्ठी का निर्माण किया तब ब्रह्मा जी काफी चिंतित हो गए क्यूंकि ना तो वो रंगीन थी और ना ही उसमे कोई सुर. इसके बाद ब्रह्मा जी ने उसमे रंग भरे और आवाज के लिए माँ सरस्वती को उत्पन्न किया.

Why do we need color according to Vastu Shastra:

आपने कभी गौर किया है की कुदरत में कुछ ऐसे रंग होते है जिन्हें देख कर हमारा मन काफी खुश हो जाता है. लेकिन क्या आपने सोचा की साधारण से रंगों को अगर वास्तु अनुरूप उपयोग में लाया जाए तो ये हमारे जीवन में बहुत ही लाभदायक होगा. सारी धन सम्बंधित परेशानी समाप्त हो जाएगी और तरक्की के नए अवसर खुल जायेंगे.

दरअसल रंगों का सीधा सम्बन्ध हमारे शारीर के चक्रों से होता है. जिन लोगो को पता नहीं है चक्र क्या होते है उनको हम बता दे की मूल रूप से हमारे शारीर में चक्र केवल सात हैं – मूलाधार, स्वाधिष्ठान, मणिपूरक, अनाहत, विशुद्धि, आज्ञा और सहस्रार।

पहला चक्र है मूलाधार, जो गुदा और जननेंद्रिय के बीच होता है, स्वाधिष्ठान चक्र जननेंद्रिय के ठीक ऊपर होता है। मणिपूरक चक्र नाभि के नीचे होता है। अनाहत चक्र हृदय के स्थन में पसलियों के मिलने वाली जगह के ठीक नीचे होता है। विशुद्धि चक्र कंठ के गड्ढे में होता है। आज्ञा चक्र दोनों भवों के बीच होता है। जबकि सहस्रार चक्र, जिसे ब्रम्हरंद्र्र भी कहते हैं, सिर के सबसे ऊपरी जगह पर होता है, जहां नवजात बच्चे के सिर में ऊपर सबसे कोमल जगह होती है।

शास्त्रों के अनुसार हर एक चार का रंग अलग होता है और ये चक्र हमारे भूत, भविष्य और वर्तमान से पूरी तरह सम्बन्ध रखते है. ऐसा कहा जाता है के हमारी हर समस्या का कारण व् हल इन चक्रों में ही छिपा होता है. इसलिए कुछ विद्वान रंगो के द्वारा चक्रो को ठीक या जागृत करते है.

तो आइये जानते है कैसे करे वास्‍तु के हिसाब से घर में रंग (Vastu tips for home):

Vastu shastra colors for Bedroom:

1. बेडरूम – बेडरूम का हमारे सेहत से सीधा संबध ही क्योंकि अगर बेडरूम में नकारात्मक उर्जा है तो हम अच्छे से नींद नहीं ले पायेगे और मानशिक तनाव आकर हमें घेर लेगा. पिंक, हल्‍का नीला और हल्‍का हरा रंग बेड रूम के लिये अच्‍छा रंग माना जाता है। बच्‍चों के बेडरूम के लिये हरा रंग सबसे अच्‍छा माना जाता है।

Vastu shastra colors for Kitchen:

2. किचन- किचन या रसोई घर ऐसी जगह होती है जहां रंगों के मामले में आपके पास बहुत ही सीमित च्‍वाइस होती है. वास्‍तू के अनुसार रसोई में सफेद, पीला, रोज पिंक, नारंगी, चॉकलेट और लाल रंग सबसे अच्‍छा माना जाता है।

Vastu shastra colors for Dining room:

3. डायनिंग रूम- डायनिंग रूम के लिये हल्‍के रंग काफी अच्‍छे माने जाते हैं. गुलाबी, हरा और नीला रंग आपको फ्रेश कर देगें। अच्‍छा होगा कि आप काला, सफेद या काले-सफेद से मिला हुआ कोई भी रंग न लगाएं.

Vastu shastra colors for Bathroom:

4. बाथरूम- सफेद, हल्‍का नीला और पेल ग्रीन आदि बाथरूम को बड़ा दिखाने के साथ साथ फ्रेश लुक देते हैं. बाथरूम में काला और गहरा लाल रंग का इस्‍तमाल न करें, इससे बाथरूम छोटा दिखेगा और यह वास्तु के अनुसार भी सही नहीं होता है.

Vastu shastra colors for Guest room:

5. गेस्‍ट रूम- ग्रेस्‍ट रूम को कई अगल अलग तरह के मूड वाले लोग इस्‍तमाल करते हैं, इसलिये इसे हमेशा हल्‍के रंग का पुतवना चाहिये। पीला, हरा, नीला, नारंगी या लेवेंडर का लाइट शेड वास्‍तू के हिसाब से अच्‍छा होता है।

अगर आप इस तरह की जानकारी और लेना चाहते है तो हमारे Youtube Channel को Subscribe करे जिसमे हम आपको वीडियोस के माध्यम से वास्तु और ज्योतिष की जानकारी देते है.Click here to Subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *