वास्तु के अनुसार बाथरूम और टॉयलेट, vastu shastra tips for bathroom and toilet

vastu shastra tips for bathroom and toilet,

 vastu shastra tips for bathroom and toilet –आम तौर पर बाथरूम और शौचालय घर में सबसे उपेक्षित स्थान है, जिसके बारे में कोई परवाह नहीं करता है। लेकिन इनके  स्थान का चुनाव करते वक्त  ध्यान देने की भी जरूरत है क्योंकि वे घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रमुख स्रोत हैं। आदर्श रूप से बाथरूम और शौचालय का निर्माण अलग-अलग किया जाना चाहिए। लेकिन आजकल स्थान की कमी के कारण ये एक दूसरे के साथ संलग्न रूप (attached)में बनाया जाता हैं। इसे ध्यान में रखते हुए हमने आपके सपनों के घर के लिए बाथरूम और शौचालय के वास्तु के बारे में कुछ सुझावों का सारांश दिया है।

वास्‍तु टिप्‍स: भवन में बाथरूम किस दिशा में हो?-WHICH DIRECTION FOR TOILET IN VASTU?

वास्तु के अनुसार बाथरूम और शौचालय का निर्माण पश्चिम, दक्षिण, उत्तर-पश्चिम या दक्षिण-पूर्वी निर्देशों में बनाया जा सकता है।यदि बाथरूम गलत दिशा में स्थित है, यह स्वास्थ्य और वित्तीय समस्याओं का कारण बन सकता है!

शेष आगे पढ़े>


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *