vastu for doors and windows in hindi- वास्तु के अनुसार दरवाजे

vastu tips for doors and window,वास्तु के अनुसार दरवाजे और खिड़की,

जानें घर में दरवाजे व खिड़कियां की स्थिति वास्तु अनुसार

आपकी किस्मत आपके लिए किस तरह से बदलती है, इस लेख से आपकी जिंदगी में काफी अंतर आ सकता है। दरवाजे और खिड़कियां हवा के लिए या लोगों को प्रवेश करने के लिए ही नहीं हैं लेकिन vastu tips for doors and windows के वैज्ञानिक तर्क के अनुसार -यह भी सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा के लिए प्रवेश द्वार हैं जो घर में आती हैं।

यदि कोई खड़किया गलत दिशा में गलत तरीके से डिज़ाइन की गई है, तो यह नकारात्मक ऊर्जा के लिए आने के लिए रास्ता बना सकती है और निवासियों के लिए दुर्घटना का कारण बन सकती है। इसके विपरीत, यदि दरवाजे और खिड़कियां सही दिशा में बनाई गई हैं, तो इससे समृद्धि और भाग्य में बहुत बढ़ोतरी हों सकती हैं।

घर में हमेशा ही  खिड़कियां और दरवाजों की संख्या इवन नंबर में (जैसे 2, 4, 6, 8, आदि) होनी चाहिए। vastu-tips-for-doors-and-windows का वैज्ञानिक तर्क -यह अब तक एक पहेली ही हैं लेकिन प्राचीन ऋषियों ने सलाह दी है कि विषम संख्या ही दरवाजों के लिए बेहतर है।

खिड़कियां और दरवाजे लगाते समय, क्रॉस-वेंटिलेशन का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है। साथ ही, खिड़कियां और दरवाजों को ऐसे लगाना चाहिए जिससे अधिक प्रकाश और हवा घर में प्रवेश कर सके.

vastu-tips-for-doors-and-windows का वैज्ञानिक तर्क- यह कमरे-से -कमरे तक हवा उचित तरीके से प्रवाह करता हैं

Door position according to the directions

दक्षिण के घरों में उत्तर का प्रवेश द्वार होना चाहिए

उत्तर के घरों में उत्तर का प्रवेश द्वार होना चाहिए

पश्चिम के घरों में पश्चिम में द्वार होना चाहिए

पूर्वी घरो के लिए प्रवेश द्वार पूर्व की ओर होना चाहिए

vastu tips for doors and windows- वास्तु के अनुसार क्या न होना चाहिए

सागौन लकड़ी दरवाजे और खिड़कियां बनाने के लिए सबसे अच्छी लकड़ी होती है

सभी खिड़कियों में एक जैसी हाइट होनी चाहिए और ऊंचाई भी सही होना चाहिए।

सीढ़ी की शुरुआत और अंत में दरवाजे का निर्माण करें

पूर्वी दिशा में निर्मित द्वार बहुत शुभ होते है। हालांकि, आप पश्चिमी और उत्तरी भाग में प्रवेश द्वार भी बना सकते हैं। लेकिन दक्षिणी दिशा से प्रवेश उपयुक्त नहीं होता है।

vastu tips for doors and windows- वास्तु के अनुसार क्या नहीं होना चाहिए

दरवाजों को आटोमेटिक रूप से बंद नहीं करना चाहिए, यह घर के बच्चों के स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल सकता है

मुख्य प्रवेश द्वार के सामने पौधे , मंदिर और सीढिया, जैसी कोई बाधा नहीं होनी चाहिए।

एक-दूसरे के सामने दो घरों के मुख्य द्वार को कभी नहीं खोलना चाहिए। ऐसे दरवाजे बहुत ही अशुभ होते हैं

घर के दरवाजा टूटे नहीं होने चाहिए। इसे जल्द -से -जल्द बदल देना जाना चाहिए।

प्रवेश द्वार को चित्रों और सजावटी टुकड़ों से सजाया जाना चाहिए

मुख्य दरवाजे के सामने कोई बाधा नहीं होनी चाहिए;जैसे की बड़े पेड़, खम्बा आदि । घर के सामने कोई भी मंदिर नहीं होना चाहिए।

दरवाजे को कभी भी दीवार के केंद्र में नहीं लगाना चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *