बुध पूर्णिमा पर करें ये रोचक काम , पलट जाएगी किस्मत पलभर में !

budh-purnima-interesting-facts,

आज BUDH PURNIMA या VESHAKH PURNIMA बड़ी ही मौज के साथ पूरे भारत में मनाया जा रहा है और आपको भी हमारी तरफ से HAPPY BUDH PURNIMA की सुभकामनाये हैं.जैसे हमारे राष्ट्रपति ने हम सबको सुबह ट्वीट कर के दी हैं |

बुद्ध पूर्णिमा– हिंदुओं और बौद्ध धर्म दोनों लोगो के लिए यह शुभ अवसर है। तो, इस सूची में, की बुद्ध पूर्णिमा कौन सा बारे में सबसे दिलचस्प तथ्यों के कुछ पता करने की कोशिश करते हैं, तो हम यकीन है, आप में से अधिकांश के बारे में- नहीं पता था! तो इस सूचि में हम आपको बुध पूर्णिमा के बारे में ऐसी-ऐसी रोचक बाते बतायेगे जो आपने कभी भी नहीं सुनी होगी!

इस दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी. ऐसा भी कहा जाता है बुद्ध विष्णु भगवान के 9 वें अवतार हैं.

बहुत कम लोग जानते होंगे कि इस दिन किस्मत पूरी तरह से पलट सकती है. इस दिन दान-पुण्य करके आपकी किस्मत चमक सकती है.

आज इस अवसर पर आपको बुध पूर्णिमा के महत्व के बारे में बताते हैं…

धर्मराज के निमित्त जलपूर्ण कलश और पकवान दान किया जाए तो सबसे बड़ा दान गोदान के बराबर फल मिलता है.

बुध पूर्णिमा के दिन 5 या फिर 7 ब्राह्मणों को मीठे तिल दान करने से आपके सारे पापों का नाश हो जाता है.

बुध पुर्णिमा के दिन एक समय भोजन करके पूर्णिमा, चन्द्रमा या सत्यनारायण की व्रत किया जाए तो आपके जीवन में कोई कष्ट नहीं होता.

पड़ोसी देश श्रीलंका में काफी हद तक भारत की दीपावली की तरह मनाया जाता है. इस दिन  घरों में दीपक जलाए जाते हैं. घर और प्रांगणों को फूलों से सजाया जाता है.

यूपी की राजधानी लखनऊ में गोमती नदी के किनारे बनारस के घाट की तर्ज पर महंत दिव्यागिरि जी महारात गोमती की आरती होती  है.

बुध पूर्णिमा के दिन काफी लोग बोधगया जाते हैं. जो लोग बौद्ध धर्म मानते हैं वो सभी यहां जाते  हैं.बोधगया में महाबोधि मंदिर है. यहां पर एक पील का पेड़ है.इसी पेड़ के नीचे ईसा पूर्ण 531 में भगवान बुझ को बोध यानि ज्ञान की प्राप्ति हुई थी.

आज के दिन बोधिवृक्ष की टहनियों को भी सजाया जाता है . इन पड़ों की जड़ों में दूध और इत्र डाला जाता है और दीपक भी जलाए जाते हैं.

कुछ लोग इस दिन पंक्षियों को भी पिंजरों से आजाद करते हैं.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *