Navratri Vrat Recepies| नवरात्रि व्रत रेसेपी

Navrtara Vrat Recepies

भारतवर्ष में व्रत उपवास की परंपरा सदियों से चली आ रही हैं Navratri vrat recepies व्रत का अर्थ एक समय का भोजन किसी किसी व्रत में तो जल और भोजन दोनों ही ग्रहण नहीं किया जाता हैं, और अगले दिन व्रत खोला जाता हैं जिसे निर्जला व्रत भी कहा जाता हैं.जैसे तीज का व्रत . किसी व्रत में पूरे दिन जल नहीं किया जाता पर चंद्र उदय होने के बाद आप भोजन और जल दोनों ग्रहण करते हैं .जैसे करवा चौथ. पर कुछ व्रत ऐसे हैं हैं जिसमे आप केवल फलाहार करते हैं,जैसे जन्माष्टमी ,शिवरात्रि ,रामनवमी, और नवरात्रि.(Navratri 2018) कुछ लोग नौ दिन तक तक व्रत रखते हैं ,कुछ लोग आठ दिन तक व्रत रखकर कन्याओ को खिलाकर व्रत खोल देते हैं कुछ लोग रामनवमी(Ram navami) करके ही व्रत खोलते हैं. कुछ लोग पहला और अष्टमी का व्रत ही रखते हैं .

 

यह तो बात रही हमारी श्रद्धा की हम कौनसा व्रत रखते हैं, पर भारत में फलाहार का अर्थ भी बहुत व्यापक हैं कुछ लोग नमक का भी परहेज करते हैं ,कुछ लोग सैंधा नमक का प्रयोग करते हैं. फलाहार को अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो फल और कुछ विशिष्ट सब्जिया जिन्हे हम फल की श्रेणी में रखते हैं जैसे आलू, लौकी, अरबी,साबूदाना ,कद्दू ,शकरकंद .पर आप अपनी श्रद्धा और परिवार की परंपरा के अनुसार जो भी फलाहारी खाना बनाना चाहे ,आप स्वतंत्र हैं.यहाँ हम आपको बताएँगे कुछ स्वादिष्ट फलाहारी खाना (navratri vrat recepies)जो आप आसानी से घर में बना सकती हैं.

कच्चे केले की टिक्की (Kachche Kele Ki Tikki:)

कच्चे केले में कार्बोहाइड्रेट, रेशे, विटामिन सी एवम् विटामिन बी6 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है.कच्चे केले की टिक्की स्वस्थ्य और स्वाद दोनों के हिसाब से बहुत स्वादिष्ट और लाजवाब हैं ,आप इसे काम चिकनाई लगाकर भी बना सकती हैं.
सामग्री :
1- 5-6 कच्चे केले
2-सेंधा नमक
3-घी या तेल तलने या सेकने के लिए
4-हरी मिर्च
5– कटा धनिया 2 बड़े चम्मच

 Kachche Kele Ki Tikki Banane Ki Vidhi

1-कच्चे केले को धोकर इसे बीच से दो टुकड़ों में काट लें. केले को गलने तक उबालें. मैने केले को प्रेशर कुकर में एक सीटी लेकर उबाला है.
2-उबले केले को थोड़ा ठंडा होने दें.
3-हरी मिर्च का डंठल हटा दें और उसे अच्छे से धो कर काट लें.
4-उबले हुए केले को छील लें. अब इसे अच्छे से मसल लें.
5-एक कटोरे में मसले हुए केले, कटी हरी मिर्च, कटा हरा धनिया, और नमक लें और सभी सामग्री को अच्छे से मिलाएँ.
6-अब इस मिश्रण को इसको टिक्की के जैसे आकार दे लें.
7-अब इन केले की टिक्की को आप 10 मिनट के लिए फ्रिज में रख दें ऐसा करने से सेकते समय टिक्की फटती नही हैं.
8-अब इन टिक्की को सेक सकते हैं या फिर तल भी सकते हैं. टिक्की को सेकने के लिए एक तवा गरम करें. तवे में ज़रा सा घी लगाकर तली को चिकना करें अब टिक्की को दोनों तरफ से लाल होने तक सेक लें.
9-आप इन टिक्की को डीप फ्राई भी कर सकती हैं.
10-तली हुयी टिक्की को टिश्यू पेपर में निकाल ले.
आप इन टिक्की को चाय ,लस्सी , फलाहार चटनी के साथ सर्व कर सकती हैं.

 Sabudana Vada| साबूदाना वड़ा

1-साबूदाना ½ कप
2-पानी लगभग 1 कप
3-उबले आलू 2 मध्यम
4-सिंघाड़े का आटा 1/3 कप
5-भूनी मूँगफली 4 बड़ा चम्मच
6-हरी मिर्च 4-5
7-सेंधा नमक 1¼ छोटा चम्मच/ स्वादानुसार
8-कटा हरा धनिया 2 बड़ा चम्मच
9-तेल लगभग ३ बड़ा चम्मच, सेकने या तलने के लिए

 Sabudana Vada Banane Ki Vidhi |साबूदाना वड़ा बनाने की विधि:


1-साबूदाने को बीनकर धो लें अब इसे लगभग एक कप-सवा पानी में 2-3 घंटे के लिए भिगो दें.
2– 2-3 घंटे के बाद साबूदाना पानी सोख कर मुलायम हो जाता है. अगर साबूदाना कड़ा लगता है तो थोड़ा और पानी डालकर कुछ और देर के लिए इसे भिगो दें. भीगे साबूदाने में को इस्तेमाल करने से पहले छान लें जिससे कि अगर इसमें कुछ एक्सट्रा पानी है तो निकल जाए.
3-हरी मिर्च को धो कर महीन-महीन काट लें.
4-उबले आलू को छील कर आलू को अच्छे से मसल लें,
5-भुनी मूँगफली को दरदरा कूट लें.
6-अब एक कटोरे में भीगा साबूदाना, मसले आलू, सिंघाड़े के आटा , दरदरी कुटि मूँगफली, कटी हरी मिर्च, कटा हरा धनिया, और नमक लें और सभी सामग्री को अच्छे से मिलाएँ. अब इसे अच्छे से मिलाएँ.
7-अब इस मिश्रण की टिक्की बनाकर इसे सेक ले या तल ले.
अब इसे चटनी के साथ खा सकते हैं.

यहाँ भी पढ़ें

click here to download  –Navratri images

Ram Navami 2018 

9 Bhog for Nav Durga
Navratri Puja Vidhi 2018
दुर्गा पूजा विधि

You May Also Like