लौंग के औषधीय गुण / लौंग से वशीकरण उपाय

लौंग के औषधीय गुण ,लौंग से वशीकरण उपाय पुरुषों के लिए लौंग लाभ लौंग के उपयोग लौंग से वशीकरण उपाय लौंग से वशीकरण टोटके

वशीकरण का अर्थ हैं किसी को भी अपने वश में कर उसके मष्तिष्क और दिल में काबू करके उसे अपना गुलाम बना देना , और फिर मनमाने ढग से उससे अपने काम करवाना.इन्ही उपायों में सबसे सरल और साधरण ढंग से वशीकरण में करने का उपाय हैं, लौंग से वशीकरण का (लौंग के औषधीय गुण) , लौंग सबसे प्रभावी और अचूक तरीका हैं किसी को भी अपने वश में करने का. यह एक प्रभावी जादुई उपाय हैं ,जिसका निष्फल होना असंभव सा प्रतीत होता हैं.

लौंग से वशीकरण उपाय

लौंग से वशीकरण का उपाय बहुत ही सरल हैं, केवल तीन शुक्रवार ही ये उपाय करके आप लौंग के जादुई प्रभाव को देख सकते हैं.पर स्मरण रहे कि अगर बुरी भावना से अगर आप ये उअपय कर रहे है तो इसका बुरा परिणाम आप के लिए ही अहितकर होगा, इसलिए दुर्भावना से नहीं अपितु सुभावना से आप यह कार्य करे .इस प्रभावी उपाय के लिए शुक्रवार का दिन ही सर्वश्रेष्ठ हैं, इसके लिए तीन लौंग, एक कटोरी देसी घी ,एक रुई की बाती. एक डिब्बी सिंदूर ले.अब किसी भी शुक्रवार को स्नानादि करके

3 लौंग को सिंदूर की डिब्बी में रख दे ,रुई की बत्ती को घी में भिगोकर जला लें। फिर लौंग को सिंदूर की डिब्बी से निकालकर उसे एक गिलास पानी में डाल या भीगा दें।

लौंग के औषधीय गुण

इसके बाद इस मंत्र का जाप “ऊं तत भार्वय् नमो नम, या रुद्र या मोहिनी कर, मैं अमन (जिस पर वशीकरण करना हो उसका नाम) सिद्ध नमो स्वाहा” 1100 बार जाप करें।

इसके बाद अगले शुक्रवार को सिद्ध लौंग में दोबारा 11 बार वशीकरण मंत्र पढ़े और तीसरे और अंतिम शुक्रवार को उस लौंग का इस्तेमाल करें। वशीकरण (Vashikaran) करने वाले व्यक्ति के आसपास लौंग को रख दें। या उसे आप खाने में दें दे.। इससे वह आपके वशीभूत होकर आपकी बातो का अनुसरण करेगा.

लौंग के औषधीय गुण

लौंग के औषधीय गुण

10 -12 मीटर की उचाई वाला लौंग का वृक्ष सदाबहार होता हैं.लौंग न केवल मसाले के रूप में अपितु औषधीय रूप में भी इसके गुण सर्वोत्तम हैं. दन्त रोगो में सर्वाधिक उपयोगी व के रूप में लोकप्रिय लौंग मुँह से आने वाली दुर्गन्ध को भी रोकता हैं.लौंग में मौजूद औषधीय तत्वों का अगर हम विश्लेषण करे तो इसमें , कैल्शियम , विटामिन ,वसा ,पोटेशियम, फास्फोरस, लोहा,कार्बोहइड्रेट,प्रोटीन आदि औषधीय तत्व शामिल होते हैं.लौंग के तेल में ऐसे औषधीय गुण मौजूद हैं,जो शरीर के तापमान को नियंत्रित करते हैं.

लौंग के तेल को तिल के तेल के साथ मिलाकर कान में डालने से कान के दर्द में राहत मिलती है। ब्लड शुगर को भी नियंत्रित करने में लौंग का तेल बहुत उपयोगी हैं.पेट के दर्द में भी लौंग बहुत उपयोगी हैं, यह पाचन तंत्र को सही रखता हैं.खाँसी को दूर करने के लिए जले हुए लौंग को चबाना अच्छा होता है। दमा से होने वाली पीड़ादायक खाँसियों को कम करने के लिए लहसुन की एक कली को शहद के साथ मिलाएँ और उसमें तीन से पाँच लौंग के तेल की बूँदें डालें। सोने से पहले इसे एक बार लेने से काफी आराम मिलेगा।

इसके साथ ही एक बात ध्यान देने योग्य ये भी हैं की लौंग बेहद गर्म होता हैं, इसका सेवन आप अपने शरीर की प्रकृति के अनुसार ही करे ,इसका ज्यादा सेवन गुर्दो और आँतों के लिए बेहद नुकसानदायक भी सिद्ध हो सकता हैं.

कपूर और लौंग के उपाय

आरती करते समय दीपक में 2 लौंग डाल कर आरती करें। आपके हर काम सुगमता से होंगे और किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आएगी

सरसो के तेल के दीपक में लौंग डालकर हनुमानजी की आरती (hanuman ji ki aarti करें। इससे अनिष्ट होगा और धन भी प्राप्त होगा

वास्तु दोष यदि घर में हो तो घर में कपूर जलाकर वास्तु दोष को दूर किया जा सकता हैं

कपूर और लौंग के उपाय

रात को रसोई में चाँदी की कटोरी में कपूर और लौंग जलाकर रखने से कभी भी धन की कमी नहीं आएगी

शादी में यदि विलम्ब हो रहा हो तो कपूर और लौंग के साथ हल्दी और चावल ले और माँ दुर्गा की पूजा करे और हवन के दौरान आहुति दे , इससे सारी अड़चने दूर हो जाएगी.

You May Also Like