बंगला साहिब गुरुद्वारा आस्था के साथ सुविधाओं का भी उचित प्रबंधन

दिल्ली स्थित बांग्ला साहिब गुरुद्वारा (Bangla Sahib Gurudwara) दिल्ली के महत्वूर्ण गुरुद्वारों में से एक हैं , यह गुरुद्वारा सिखों के आठवे गुरु गुरु हरकिशन का दिल्ली प्रवास के दौरान केंद्र रहा था. गुरु हरकिशन सिखों के गुरुओ में सबसे कम उम्र के गुरु रहे थे

दिल्ली स्थित बांग्ला साहिब गुरुद्वारा (Bangla Sahib Gurudwara) दिल्ली के महत्वूर्ण गुरुद्वारों में से एक हैं , यह गुरुद्वारा सिखों के आठवे गुरु गुरु हरकिशन का दिल्ली प्रवास के दौरान केंद्र रहा था. गुरु हरकिशन सिखों के गुरुओ में सबसे कम उम्र के गुरु रहे थे , मात्र आठ वर्ष की उम्र में ही ही गुरु हरकिशन को सिखों के आठवे गुरु के रूप में गद्दी प्राप्त हुयी थी. गुरु हरकिशन जी के अपने दिल्ली प्रवास के दौरान जब दिल्ली में चेचक और हैज़ा फैला हुआ था.

तब गुरु हरकिशन जी ने बांग्ला साहिब के अंदर स्थित कुए से जल लोगो को दिया, इस जल से लोगो को स्वास्थ्य लाभ हुआ , मान्यता हैं की इस जल को लेकर गुरु हरकिशन जी ने अरदास की और लोगो को यह पवित्र जल दिया , जिससे लोगो को बहुत फायदा हुआ . यद्यपि बाद में गुर हरकिशन जी को चेचक निकल आयी और, गुरु हरकिशन जी का मात्र आठ वर्ष की आयु में निधन हो गया .

Bangla Sahib Gurudwara History

Bangla Sahib Gurudwara

 

दिल्ली स्थित बांग्ला साहिब गुरुद्वारा (Bangla Sahib Gurudwara)सिखों की धर्म और आस्था का प्रमुख केंद्र हैं. यह गुरुद्वारा वास्तव में राजा जयसिंह का महल था. सिखों के आठवे गुरु हरकिशन सिंह जी से सम्बंधित होने के कारण इसकी महत्ता और भी बढ़ जाती हैं. अपने दिल्ली प्रवास के दौरान गुरु हरकिशन सिंह यही रहे थे , और यहाँ उन्होंने चेचक और हैजा से पीड़ित लोगो को महल में स्थित कुए के जल स्वास्थ्य लाभ दिया और , बाद में गुरु हरकिशन जी को चेचक निकल आयी और उनका मात्र आठ वर्ष की आयु में निधन हो गया .और गुरु हरकिशन जी के निधन के पश्च्यात इस महल को गुरुद्वारा बना दिया गया.

मान्यता हैं यहाँ स्थित सरोवर के जल में औषधीय गुण हैं, और इस जल को अपने घर ले जाते हैं,अन्य गुरूद्वारे की तरह यहाँ भी लंगर हैं. सभी धर्म जाति के लोग यहाँ आते हैं , और प्रसाद ग्रहण करते हैं. गुरूद्वारे के अंदर जाने के लिए आपको स्कार्फ की सुविधा भी दी जाती हैं. इसके अलावा आपके मार्गदर्शन के लिए गाइड की सुविधा भी दी जाती हैं. बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए यहाँ रहने की सुविधा की भी समुचित व्यवस्था की गयी हैं.

Bangla Sahib Daily Meal

Bangla Sahib Daily Meal

स्वर्ण मंदिर की तरह ही बांग्ला साहिब गुरूद्वारे (Bangla Sahib gurudwara Daily Meal) में भी लंगर की समुचित व्यवस्था की गयी हैं. यहाँ लंगर का समय सुबह 9 बजे से 3 बजे तक और शाम को 7 बजे से 10 बजे तक  हैं. यह दो बड़े हॉल में लंगर का कार्यक्रम चलता हैं.लंगर का भोजन शाकाहारी हैं,

जिसमे आपको रोटी ,चावल, सब्जी वाली करी(सिंधी कड़ी) दाल और मीठे में खीर दी जाती हैं. यहाँ पर दूसरी जगह आने वाले लोगो के लिए लंगर की व्यवस्था और खाने की व्यवस्था निशुल्क में की गयी हैं. इसके अलावा यहाँ बाबा बघेल सिंह संग्रहालय,और कला संग्रहालय भी मौजूद हैं.

Bangla sahib nearest metro station gate

Bangla sahib nearest metro station gate

 

दिल्ली स्थित बांग्ला साहिब गुरुद्वारा सिखों के आस्था और विश्वास का केंद्र रहा हैं . गुरूद्वारे की बनावट बहुत ही भव्य और अनूठी हैं, गुरूद्वारे का ऊपरी हिस्सा स्वर्ण से ढका हुआ हैं. गुरूद्वारे तक जाने के लिए सबसे नजदीकी मेट्रो स्टेशन राजीव चौक मेट्रो स्टेशन या पटेल चौक दोनों हैं. यहाँ से बंगले साहिब गुरूद्वारे का रास्ता 10 मिनट का ही हैं यहाँ से आप ई रिक्शा से या पैदल ही बांग्ला साहिब गुरुद्वारा जा सकते हैं.

Bangla Sahib Gurudwara Contact Number

Bangla Sahib Gurudwara Contact Number

 

बांग्ला साहिब न केवल एक गुरुद्वारा बल्कि इसके परिसर में कई सुख सुविधाओं का जमावड़ा भी हैं. यहाँ पर एक पुस्तकालय , दो बड़े खाने के लंगर हॉल भी हैं.इसके अलावा यहाँ पर एक स्कूल खालसा गर्ल्स स्कूल , और गुरूद्वारे के बेसमेंट में एक अस्पताल भी हैं,

इसके अलावा यह पर एक थियेटर भी हैं.इस थियेटर में धार्मिक मूवी दिखाई जाती हैं, ये सुविधाएं यहाँ निशुल्क हैं यहाँ पर अन्य सुविधाओं के लिए इनके पते और दूरभाष नंबर पर भी जानकारी ले सकते हैं.

गुरुद्वारा बंगला साहिब- प्रवेश निशुल्क

पताः अशोक रोड , हनुमान रोड कनाट प्लेस नयी दिल्ली .
प्रवेश का समय :सभी दिन 24 घंटे
दूरभाष नंबर +91-11-23340177 / +91-11-23712580 / +91-11-23712581
ऑफिशियल वेबसाइट www.banglasahib.org

बांग्ला साहिब न केवल एक गुरुद्वारा  (Bangla Sahib gurudware) बल्कि जनता की सुविधाओं के लिए एक जनसुविधा का परिसर भी हैं. सिखों की आस्था , त्याग , और दान के केंद्र के रूप में गुरुद्वारा की महिमा को जितना वर्णित किया जाये उतना कम हैं.गुरु हरकिशन जी के सेवा के केंद्र के रूप में बंगला साहिब सेवा , आस्था और विश्वास का केंद्र हैं.

Related Post:

Famous temples in Delhi

भगवान विष्णु के दस अवतार : जीवन का दर्शन सिखाते हैं हमें

एक रोचक कथा, कैसे हुआ भगवान शिव जन्म ?

You May Also Like