दक्षिण की अयोध्या के रूप में प्रसिद्द हैं भद्राचलम श्री राम मंदिर

Bhadrachalam temple | Bhadrachalam Temple History | Bhadrachalam Places to Visit

भद्राचलम तेलंगाना (Bhadrachalam temple ) के खम्मम जिले में स्थित हैं. भद्राचलम मंदिर श्री राम से जुड़ा हुआ एक प्रमुख धार्मिक स्थान हैं. राम सीता को समर्पित यह मंदिर एक प्रमुख धार्मिक स्थल हैं, राम भगवान विष्णु के सातवे अवतार थे, और देवी सीता लक्ष्मी का अवतार हैं.

भद्राचलम दक्षिण की अयोध्या के नाम से भी भी प्रसिद्ध हैं.श्री राम चौदह वर्ष के वनवास की अवधि के दौरान भद्राचलम में पर्ण कुटीर बनाकर रहे थे.ऐसी मान्यता भी हैं, कि सीता का अपहरण इसी स्थान से हुआ था,भद्राचलम आदिवासियों का क्षेत्र हैं, और यहाँ के आदिवासियों के लिए श्रीराम उनके आराध्य देव हैं.

Bhadrachalam Temple History

Bhadrachalam temple

जनश्रुति के अनुसार यहाँ के आदिवासियों में एक कथा प्रचलित हैं वह यह हैं कि, दमक्क़ा नामक एक आदिवासी रामभक्त महिला भद्रिरेड्डीपालेम में रहती थी, दमक्क़ा नामक महिला का एक दत्तक पुत्र था राम , एक बार राम जंगल में गया और देर तक वापिस नहीं आया . दमक्क़ा उसे खोजने जंगल में गयी , पर वह नहीं मिला, और राम राम पुकारने लगी

तभी उसे पास की गुफा से माँ शब्द की आवाज आयी , उसने गुफा के अंदर जाकर देखा तो उसका बेटा राम वहाँ गुफा में हैं,और वहाँ राम , लक्ष्मण ,और सीता की प्रतिमाये हैं, यह देहकर दमक्क़ा भाव विभोर हो गयी, और उसने एक मंदिर का निर्माण किया , हालांकि अस्थायी तौर पर बना ये मंदिर बना था, पर धीरे धीरे भद्राचलम के सारे निवासी वहाँ आने लगे और उस मंदिर में श्रीराम की पूजा अर्चना होने लगी.

Bhadrachalam temple images

श्री राम का यह पावन मंदिर का निर्माण भद्राचलम (Bhadrachalam temple ) के तहसीलदार कांचली गोपन्ना ने किया था . कांचली गोपन्ना ने बाँस के मंदिर के स्थान पर श्री राम का भव्य मंदिर बनवाया ,, उसने श्री राम की भक्ति में कई भजन लिखे , जिस कारण लोग उन्हें रामदास कहने लगे , रामदास के आध्यात्मिक गुरु कबीरदास थे, रामदास भक्ति आंदोलन से भी जुड़े थे,

Bhadrachalam Temple timings

Bhadrachalam Temple timings
Bhadrachalam Temple timings

 

भद्राचलम मंदिर दक्षिण की अयोध्या के रूप में प्रसिद्द श्री राम को समर्पित एक धार्मिक तीर्थ स्थान हैं.यह मंदिर एक आदिवसीय बहुल इलाके में हैं, आदिवासी श्री राम को अपना आराध्य देव मानते हैं, और यहाँ श्री राम नवमी के दिन श्री राम की पूजा के लिए मंदिर में भक्तो की भीड़ होती हैं,आदिवासी श्री राम नवमी को बहुत हर्षोल्लास के साथ मानते हैं. भद्राचलम में मंदिर  (Bhadrachalam temple ) के दर्शन का समय इस प्रकार हैं.

Bhadrachalam Temple timings

 

4:00 am – मंदिर के खुलने का समय
4:00 am – 4:30 am – सुप्रभात सेवा
5:30 am – 12:00 pm –सर्व दर्शन
12:00pm – 3:00 pm – मंदिर के द्वार बंद
3:00 pm – सायंकाल मंदिर के द्वार पुन: खुलते हैं
3:00 pm – 6:00 pm – सर्व दर्शन
6:30 pm – 9:00 pm –सर्व दर्शन
9:00 pm – एकांत सेवा
9:30 pm – मंदिर के द्वार बंद

Bhadrachalam Places to Visit

Bhadrachalam Places to Visit

भद्राचलम मंदिर श्री राम से जुड़ा एक पावन तीर्थ स्थान हैं, भद्राचलम श्री राम मंदिर के अलावा यहाँ और भी देखने लायक तीर्थ स्थान हैं जो इस प्रकार हैं.

  • पापी कोंडलु हिल्स
  • भद्राचल राम मंदिर
  • पर्णशाली
  • सबरी
  • श्री सीतारामचन्द्र स्वामी मंदिर
  • अभया अंजनेया मंदिर

भद्राचलम मंदिर (Bhadrachalam temple )( श्री राम की आस्था का एक प्रमुख केंद्र के रूप में तमिलनाडु के खम्मम जिले में स्थित एक प्रमुख तीर्थस्थान हैं, दक्षिण की अयोध्या के रुप प्रसिद्ध भद्राचलम एक श्री राम की आस्था का प्रतीक हैं.इस मंदिर में श्री राम लक्ष्मण और माँ सीता की मूर्तियाँ हैं, रामनवमी (ramnavami) , और दशहरा यहाँ मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक हैं.

Related post:

Shree Badrinath Yatra

यमुनोत्री की कहानी – यमुनोत्री धाम की कथा

Gangeshwar Temple – gangeshwar mahadev

You May Also Like