गुवाहाटी स्थित नवग्रह मंदिर

ग्रहो की संख्या नौ हैं , सूर्य ,चंद्र , बुद्ध , मंगल, शुक्र , बृहस्पति , शनि , राहु , केतु . भारत में नवग्रह के मंदिर इसी तर्ज पर हैं, यहाँ नौ ग्रहो की मूर्तियाँ हैं. भारत में नव गृह के मंदिर (navagraha temple ) असम की राजधानी गुवाहाटी

भारतीय ज्योतिषी में नवग्रह का बहुत महत्वपूर्ण स्थान हैं, नवग्रह व्यक्ति की कुंडली उसके भाग्य , उसकी जीवन रेखा के लिए बहुत महत्वपूर्ण कारक होते हैं. इसलिए जब कभी व्यक्ति के जीवन में कोई उथल पुथल मचती हैं , तो व्यक्ति अपने ग्रहो को शांत कराने के लिए पूजा करने लगता हैं. ग्रहो की संख्या नौ हैं , सूर्य ,चंद्र , बुद्ध , मंगल, शुक्र , बृहस्पति , शनि , राहु , केतु . भारत में नवग्रह के मंदिर इसी तर्ज पर हैं, यहाँ नौ ग्रहो की मूर्तियाँ हैं. भारत में नव गृह के मंदिर (navagraha temple ) असम की राजधानी गुवाहाटी में ,महाराष्ट्र के नासिक नामक स्थान पर ,मध्य प्रदेश के उज्जैन नामक स्थान पर ,तमिलनाडु में नवग्रह के 9 मंदिर हैं.तमिलनाडु पहला राज्य था जहा नौ ग्रहो की तर्ज पर नवग्रह मंदिर का निर्माण हुआ.

Navagraha Temple Guwahati

navagraha temple

 

गुवाहाटी में स्थित नवग्रह का मंदिर (navagraha temple ) चित्रशिला पहाड़ी की चोटी पर स्थित हैं , ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित नवग्रह के मंदिर की बनावट और संरचना कामाख्या मंदिर जैसी हैं, मंदिर बहुत प्राचीन बना हुआ हैं.इस मंदिर का निर्माण 18 वी शताब्दी में राजेश्वर सिंह ने किया था.मंदिर में नौ शिवलिंग हैं , जो नौ ग्रहो के प्रतीक के रूप में.हैं.इन शिवलिंगो को नौ गृह से सम्बंधित रंग के कपडे से ढका गया हैं.

गुवाहाटी में स्थित इस नवग्रह मंदिर का इतिहास ( history of navgraha mandir )  बहुत पुराना हैं, मंदिर हफ्ते के सातो दिन खुला रहता हैं, मंदिर में दर्शन करने का समय सुबह 6 बजे शाम के 5 बजे तक हैं.मंदिर की वास्तुकला बहुत भव्य और अनूठी बनी हुई हैं.

9 Navagraha Temples

भारत में नवग्रह के मंदिर  (navagraha temple ) विभिन्न राज्यों में स्थित हैं. इन मंदिरो में सबसे ज्यादा नवग्रह के मंदिर तमिलनाडु राज्य में स्थित हैं. तमिलनाडु में नवग्रह के मंदिर लगभग 9 हैं.

नासिक (महाराष्ट्र)

9 Navagraha Temples

 

नासिक रेलवे स्टेशन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित अन्ना गणपति नवग्रह सिद्धिपीठम नवग्रह का मंदिर  (navagraha temple ) स्थित हैं . यहाँ नवग्रह के अलग अलग नौ मंदिर हैं. जिनमे नवग्रह के साथ उनकी पत्नियों की मूर्ति भी विराजित हैं.महाराष्ट्र में स्थित यह नवग्रह का मंदिर एक सिद्धपीठ हैं.

इसके अलावा शनिवार वाड़ा में स्थित एक नवग्रह का मंदिर हैं, जो केवल शनि के भक्तो के लिए विशेष रूप से हैं.इसके अलावा रत्नागिरी जिले में एक नवीन बना हुआ नवग्रह का मंदिर स्थित हैं.

उज्जैन (मध्य प्रदेश)

उज्जैन (मध्य प्रदेश)

 

मध्य प्रदेश के उज्जैन में नवग्रह मंदिर स्थित हैं. यहाँ भक्त अपनी प्राथनाए लेकर आते हैं, और उनकी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.भक्त नवग्रह के मंदिर (navagraha temple ) में प्रार्थना करते हैं. और मंदिर की परिक्रमा करते हैं. अपनी प्रार्थना पूरी होने के पश्च्यात वे मंदिर में प्रसाद और पुष्प अर्पित करते हैं.

तमिलनाडु में स्थित नवग्रह मंदिर

तमिलनाडु में स्थित नवग्रह मंदिर

 

तमिलनाडु में नवग्रह के नौ मंदिर हैं ये नौ मंदिर नौ ग्रहो के हैं. हर ग्रह का एक मंदिर हैं.मंदिरो के नाम और उनके स्थान इस प्रकार हैं.
सूर्यनार कोविल मंदिर-  सूर्य देव –  अधुतराई

कैलासनाथ मंदिर – चंद्रदेव –  थिंगलुर

वैथीस्वरन कोइल अंगरागन  मंदिर- मंगल –  वैथीस्वरन कोइल

स्वेतहारनयेस्वरार मंदिर – बुद्ध –  तिरुवेंकाडु

अपतसहायेस्वरार मंदिर – गुरु-  अलांगुड़ी

अग्निस्वरार मंदिर मंदिर – शुक्र – कंजनूर

तिरुनल्लर सनिस्वरन मंदिर – शनि-  कराईकल

राहु स्तलाम मंदिर – राहु – तिरुनागेस्वरम

नगन्नाथस्वामी मंदिर – केतु – कीज़हैपेरुमपाल्लम

Kumbakonam temple

 

कुम्भकोणम तमिलनाडु के तंजौवार जिले में स्थित हैं.कुम्भकोणम मंदिरो के गांव के रूप में अधिक प्रचलित हैं.कुम्भकोणम में प्रमुख मंदिर इस प्रकार हैं.

  • कुम्बेस्वरार मंदिर
  • नागेस्वरार मंदिर
  • ब्रम्माम मंदिर
  • काशी विश्वनाथर मंदिर
  • सारँगपानी मंदिर
  • रामास्वामी मंदिर
  • चक्करपाणि मंदिर

भारत के विभिन्न भागो में स्थित ये नव ग्रह के मंदिर भारत की पारम्परिक सांस्कृतिक विरासत को व्यक्त करते हैं. नव ग्रह व्यक्ति के जीवन और उसके जीवन में पड़ने वाले शुभ और अशुभ प्रभावों के महत्वपूर्ण कारको में से एक हैं .जीवन में सुख समृद्धि , कठिनाइयों के लिए इन ग्रहो का दशा और दिशा बहुत महत्वपूर्ण होती हैं,

ग्रहो की चाल उनका आपके जीवन के ऊपर पड़ने वाला प्रभाव ये सब ग्रहो की चाल के ऊपर ही निर्भर हैं , भारत में स्थित इन मंदिरो में व्यक्ति अपने ग्रहो की शान्ति के लिए पूजा करता हैं , और प्रार्थना पूरी होने पर प्रसाद अर्पित करता हैं.इसके अलावा उत्तर प्रदेश के इलाहबाद में और कौशाम्बी में भी नवग्रह का मंदिर स्थित हैं.

Related Post :

Famous temples in Delhi

कामाख्या देवी मंदिर से जुडी कुछ रोचक बाते

You May Also Like