कृष्ण को समर्पित वृन्दावन में बन रहा हैं विश्व का भव्य और अनोखा मंदिर

श्री कृष्ण की महिमा को वर्णित करता चंद्रोदय मंदिर वृन्दावन (Vrindavan Chandrodaya Mandir ) की पावन भूमि पर जल्द ही अपने भव्य रूप में प्रकट होगा .इस्कान टेम्पल बेंगलोर की कल्पना पर आधारित यह मंदिर अपने साकार रूप में शीघ्र ही हम सबके समक्ष होगा. नॉएडा और गुडगाँव के आर्किटेक्ट द्वारा इस मंदिर के निर्माण कार्य में लगे हुए हैं.

श्री कृष्ण की महिमा को वर्णित करता चंद्रोदय मंदिर वृन्दावन (Vrindavan Chandrodaya Mandir ) की पावन भूमि पर जल्द ही अपने भव्य रूप में प्रकट होगा .इस्कान टेम्पल बेंगलोर की कल्पना पर आधारित यह मंदिर अपने साकार रूप में शीघ्र ही हम सबके समक्ष होगा. नॉएडा और गुडगाँव के आर्किटेक्ट द्वारा इस मंदिर के निर्माण कार्य में लगे हुए हैं.

अमेरिका के प्रमुख इंजीनियरों के निर्देशन में दिल्ली आई आई टी के सिविल इंजीनियर इसमें लगे हुए हैं.मंदिर में प्रकाश प्रबंधन के लिए ऑस्ट्रेलिया की कंपनी काम कर रही हैं. तो इस बात से मंदिर के भव्य और आकर्षक होने में कोई संदेह नहीं . श्री कृष्ण का यह धाम 700 फ़ीट ऊंचा हैं , इसकी नीव 55 मीटर गहरी हैं , जो बुर्ज खलीफा से भी ज्यादा गहरी हैं.मंदिर को वर्तमान में बन रहे भवनों की तरह आधुनिक बनाया जा रहा हैं, इसमें एक हाईटेक लिफ्ट भी लगायी जाएगी.

Vrindavan Chandrodaya Mandir features

Vrindavan Chandrodaya Mandir

 

वृन्दावन का चंद्रोदय मंदिर (Vrindavan Chandrodaya Mandir ) की परिकलपना बेंगलोर के इस्कान टेम्पल की देन हैं. कृष्ण का यह मंदिर हाईटेक और आधुनिक सुखसुविधाओं से परिपूर्ण होगा, मंदिर की सरंचना को अगर हम देखे कृष्ण का यह मन्दिर 65 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ हैं. मंदिर की ऊंचाई 700 फ़ीट होगी और यह 70 मंजिल का मंदिर होगा .जो अपने आप में एक इस मंदिर की विशिष्ट्ता हैं.मंदिर में वर्ष भर हर आने वाले त्यौहार और धार्मिक उत्सवों को हर्षोल्लास के साथ मनाया जायेगा .इस मंदिर की परिकल्पना इस्कॉन टेम्पल के फाउंडर श्रील प्रभुपाद की हैं.

Vrindavan Chandrodaya Mandir structure detail

Vrindavan Chandrodaya Mandir features

 

विश्व की सबसे बड़ी धार्मिक सरंचना बनने जा रहे चंद्रोदय मंदिर न केवल वृन्दावन बल्कि समूचे विश्व में सबसे ऊंची धार्मिक इमारत होगी.मंदिर की निर्माण शैली का अगर हम अवलोकन करे तो विश्व की प्रसिद्ध कम्पनिया इसके निर्माण कार्य में अपना सर्वस्व दे रही हैं. मंदिर के तैयार होने में अभी वर्ष शेष हैं,पर जब यह बनकर तैयार हो जायेगा तो ,इसकी शोभा पृथ्वी से नभ तक गुंजायमान रहेगी.

Vrindavan Chandrodaya Mandir structure detail

 

65 एकड़ में फैले इस मंदिर की ऊंचाई लगभग 700 फ़ीट होगी , जो अपने आप में विश्व का बहुत बड़ा कीर्तिमान है.इस मंदिर की नीव 55 मीटर गहरी होगी जो बुर्ज खलीफा के कीर्तिमान को भी पीछे छोड़ेगी , बुर्ज खलीफा की गहराई 50 मीटर हैं. .मंदिर की अन्य विशेषता में इसमें 40 लिफ्ट होगी , जिसमे 6 लिफ्ट बहुत तेज गति वाली होगी .

Vrindavan Chandrodaya Mandir festivals

Vrindavan Chandrodaya Mandir festivals

 

चंद्रोदय मंदिर में वर्ष भर हिन्दू त्योहारों की धूम रहेगी. झूलोत्सव , रथ यात्रा ,कृष्ण जन्माष्टमी, राम नवमी,नौका विहार, कुंजविहार ,आदि त्यौहार मनाये जायेंगे . इसके अलावा मंदिर प्रबंधन के द्वारा दान आदि के कार्क्रम भी आयोजित किये जायँगे .जिसमे अक्षय पात्र नामक मिड डे मील का भी प्रबंधन किया जायेगा .

Vrindavan Chandrodaya Mandir festivals

 

. मंदिर में प्रकृति का अनुपम सौंदर्य भी बना रहे इसके लिए मंदिर परिसर में 12 वन होंगे जो मंदिर को विशिष्ट स्वरुप प्रदान करेंगे इन वनो में निधि वन ,खजूर के वन , वटवृक्ष वन हैं, जो फूलो , फलो से लदे होंगे और वनस्पतियो से लदे होंगे.सबसे प्रमुख बात मंदिर द्वारा यमुना को उसका प्राचीन स्वरुप और वैभव दिलाने की दिशा में प्रयत्न किया जायेगा. इसके अलावा वृन्दावन में रहने वाली विधवा स्त्रियों के लिए कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे .इसके अलावा गौ सेवा के लिए यहाँ पर गौशाला भी बनायीं जाएगी.

vrindavan chandrodaya mandir completion date

vrindavan chandrodaya mandir completion date

 

चंद्रोदय मंदिर वृन्दावन के प्रमुख मंदिरो में हैं.यह मंदिर विश्व का सबसे बड़ा और सुखसुविधाओं से पूर्ण मंदिर हैं. इस मंदिर का शिलान्यास 16 नवम्बर 2014 को रपूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने इस मंदिर का शिलान्यास किया,मंदिर की नीव 55 मीटर हैं जिसमे 511 पिलर पूरी सरंचना को आधार देंगे , हर पिलर (खम्बा) की गहराई 55 मीटर की हैं.इस मंदिर का पदछाप (footprint) 5 एकड़ का हैं.मंदिर के पूर्ण होने की उम्मीद 2020 तक हैं

Vrindavan Chandrodaya Mandir campus

Vrindavan Chandrodaya Mandir campus

 

चंद्रोदय मंदिर (Vrindavan Chandrodaya Mandir ) बहुत ही भव्य और आलिशान मंदिर होगा, इसमें न केवल देश बल्कि विदेश से भी सैकड़ो श्रदालु यहाँ दर्शन के लिए आयंगे , इसलिए यहाँ पर भक्तो की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए , अनेक सुविधाएं भी दी गयी हैं.

  • गाड़ियों की पार्किंग के लिए 12 एकड़ की भूमि
  • हैलीपैड
  • कृष्णा हेरिटेज म्यूजियम
  • भोजन के लिए कैंटीन की व्यवस्था
  • पूरा वृन्दावन के दर्शन के लिए एक टेलिस्कोप की व्यवस्था
  • चंद्रोदय मंदिर में एक थीम पार्क भी होगा
  • मंदिर में एक एलीवेटर की भी व्यवस्था हैं.

कृष्ण को समर्पित यह मंदिर बहुत ही भव्य और अद्भुत होगा, 2020 तक चनद्रोदय मंदिर के पूर्ण होने की उम्मीद हैं.और सभी भक्त कृष्ण के दर्शन कर अपने नेत्रों को धन्य कर सकेंगे.

अन्य जानकारियाँ :-

श्री कृष्ण के बासुरी से जुडी कथा, कैसे मिली भगवान कृष्ण को बांसुरी |

कृष्ण का अलौकिक और दर्शनीय स्थल हैं वृन्दावन का प्रेम मंदिर

You May Also Like