बुद्ध पूर्णिमा के रूप में हैं विख्यात वैसाख पूर्णिमा

हिन्दू पंचांग में कई तिथियां बहुत महत्वपूर्ण होती हैं.जिनमे . चतुर्दशी , पूर्णिमा , एकादशी, प्रदोष इस सभी तिथि में स्नान , दान और व्रत का बहुत माहात्म्य होता हैं. वर्ष में प्रत्येक माह में पूर्णिमा(2021 Vaishakha Purnima) आती हैं, पूर्णिमा की दिन स्नान दान का बड़ा महत्व हैं .वैशाख माह में आने वाली पूर्णिमा बहुत बड़ी पूर्णिमासी मानी जाती हैं.

इस पूर्णिमा को श्रेष्ठ पूर्णिमा में गिना जाता हैं. इस दिन की पूर्णिमा में तुलसी को जल में डालकर स्नान का बहुत महत्व हैं, इस दिन स्नान करते समय ॐ नमो नारायण मंत्र का जाप करना चाहिए, इस दिन दान का बहुत बड़ा महत्व हैं.व्यक्ति को अपनी श्रद्धा और सामर्थ्य के अनुसार दान करना चाहिए .

Purnima Vrat 2021

वैशाख मास की पूर्णिमा(purnima vrat 2021)बहुत बड़ी और पावन हैं. वैसाख की पूर्णिमा को बहुत ही शुभ पूर्णिमा भी माना जाता हैं, इस दिन का महत्व एक वजह से और भी हैं इस दिन महात्मा बुद्ध का जन्म हुआ था. वैसाख मास की पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima )के रूप में भी मनाया जाता हैं.

वैसाख मास में दान की महिमा का वर्णन करते हुए नारद जी कहते हैं की वैसाख पूर्णिमा को व्यक्ति जितना दान करता हैं उसका उतना ही शुभ और अक्षय फल व्रत और दान करने वाले को प्राप्त होता हैं.इस वर्ष वैसाख पूर्णिमा का व्रत 30 अप्रैल को मनाया जायेगा .

Vaishakh Month Importance

वैसे तो वैसाख माह अपने आप में ही बहुत पवित्र और पावन माह (Vaishakh Month importance) हैं.इस माह में होने वाले व्रत और पर्वो का विशेष महत्व हैं. इन व्रतों को करने से व्यक्ति की मनोकामना सिद्ध होती हैं. इन व्रतों का महत्व आध्यात्मिक दृष्टि से जितना हैं , उतना ही लौकिक दृष्टि से भी हैं.

वैसाख माह में आने वाले पर्वो का अगर हम उल्लेख करें तो पुत्रदा पंचमी ,शर्करा सप्तमी , कमल सप्तमी , वैसाख अष्टमी , जानकी नवमी, मोहिनी एकादशी. वैसाख माह में आने वाले महत्वपूर्ण व्रत और त्यौहार हैं. इन सब व्रतों और पर्वो की वजह से वैसाख माह का महात्मय और बढ़ जाता हैं .

Vaishakha Purnima Importance

वैसाख माह (Vaishakha purnima importance) को पुण्य और शुभ फलो का कारक माह कहा जाये तो अतिशियोक्ति नहीं होगी.इस माह में पर्व का तो महत्व हैं ही इसके साथ एकादशी और अमावस्या का भी दान और पुण्य शुभ और अक्षय फल प्रदान देता हैं,हिन्दुओ के लिए इस दिन का विशेष महत्व हैं , और दूसरी और बौद्ध अनुयायियों के लिए वैसाख पूर्णिमा बहुत महत्व वाली हैं . इस दिन बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा बुद्ध का जन्म हुआ था. इसलिए वैसाख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता हैं.

वैसाख पूर्णिमा को सत्य विनायक का व्रत रखा जाता हैं , इस व्रत को करने से व्यक्ति की आर्थिक विप्पनता दूर हो .जाती हैं. इस व्रत को करने का विधान भगवान कृष्ण ने सुदामा को बताया था जिससे सुदामा की गरीबी दूर हो गयी , ऐसी भी मान्यता हैं इस व्रत को करने से व्यक्ति को अकाल मृत्य का भी भय नहीं रहता.

Purnima 2021 dates and time

2021 में होने वाली पूर्णिमा इस प्रकार हैं

28 जनवरी, बृहस्पतिवार: पौष पूर्णिमा
27 फरवरी, शनिवार: माघ पूर्णिमा
28 मार्च, रविवार: फाल्गुन पूर्णिमा
26 अप्रैल, सोमवार: चैत्र पूर्णिमा
26 मई, बुधवार: बुद्ध पूर्णिमा
जून 24, बृहस्पतिवार: ज्येष्ठ पूर्णिमा
जुलाई 23, शुक्रवार: आषाढ़ पूर्णिमा व्रत
22 अगस्त, रविवार: श्रावण पूर्णिमा
20 सितंबर, सोमवार: भाद्रपद पूर्णिमा
20 अक्टूबर , बुधवार: आश्विन पूर्णिमा
18 नवंबर, बृहस्पतिवार : कार्तिक पूर्णिमा
18 दिसंबर, शनिवार: मार्गशीर्ष पूर्णिमा

विष्णु भगवान के लिए समर्पित पूर्णिमा का व्रत अक्षय और पुण्य फल प्रदान करने वाला होता हैं, इस दिन स्नान दान और व्रत करने वालो को लौकिक और पारलौकिक दोनों सुखो की प्राप्ति होती हैं

Mereprabhu
Logo
Enable registration in settings - general