Shani Dev
0
शनि देव की बदल चुकी है चाल, जनवरी तक इन सात राशियों पर कर रहे है वार !
0

शनि देव के प्रकोप से सभी भय खाते है, जिस व्यक्ति के कुंडली में शनि की बुरी स्थिति हो उसके सभी कार्य में बाधा आती है. अगर किसी व्यक्ति के जन्म पत्रिका में बचपन ...

0
कंगाल को भी बना सकता है मालामाल शनि देव का यह तांत्रिक उपाय !
0

हिन्दू धर्म ग्रन्थों के अनुसार शनिदेव को दण्डाधिकारी बतलाया गया है, मनुष्य के हर अच्छे बुरे कर्मो के अनुसार शनिदेव उसे फल देते है. यदि किसी व्यक्ति से शनिदेव ...

0
यदि आप चाहते शनि के विशेष कृपा तो अपनाए ये 10 सिद्ध उपाय !
0

यमराज यदि मृत्यु के देवता हैं, तो शनि कर्म के दंडाधिकारी हैं. गलती जाने में हुई हो या अनजाने में, दण्ड तो भोगना ही पड़ेगा. शनिवार का व्रत करने वाले शनिभक्त को ...

0
जब हनुमानजी ने शनिदेव को सबक सिखाया
0

story of hanuman and shani dev : शनिदेव के घमंड के किस्से मशहूर हैं। रूद्र के बारहवें अवतार और भगवान श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमानजी का ध्यानभंग करने की सजा ...

0
ब्रह्माण्ड के दंडाधिकारी – शनि देव !
0

shani dev maharaj  : शनि देव बहुत ही दयालु एवं न्याय प्रिय देवता हैं, दुष्कर्मो की वे कठोर सजा देते है अतः उन्हें क्रूर माना जाता है, जबकि ऐसा नहीं है. लोग ...

0
शनि देव की महिमा – कहावत है शनि जाते हुए अच्छे लगते हैं न कि आते हुए
0

shani mahima : शनि से प्रभावित (shani dev effact)व्यक्ति कई प्रकार के अनावश्यक परेशानियों से घिरे हुए रहते हैं। कार्य में बाधाओं का होना, कोई भी कार्य आसानी ...

0
कलियुग के व्यस्त शनिदेव
0

shanidev kaliyug : कलियुग के व्यस्त शनिदेव ज्योतिष में मान्य सात ग्रह पिण्डों में शनिदेव पृथ्वी से सबसे दूर अपनी न्याय व्यवस्था का संचालन करने में व्यस्त हैं। ...

0
श्री शनिदेव की ढईया
0

shani dev ki dhaiya : भगवान शंकर जब गणों को कार्य सौंप रहे थे उस समय उन्हेंने शनिदेव को अधिकार दिया कि वे दुष्ट व्यक्तियों को दण्ड देंगे। शनि उस दिन से धरती ...

0
शनि की आयु पर शुभ दृष्टि हर बला से बचाए
0

shani dev ki mahima  : शनि जहाँ मारक है, वहीं मोक्ष का दाता भी है। शनि जहाँ उम्र बढ़ाता है, वहीं काल के गाल में समा लेता है। शनि की शुभ स्थिति मौत से भी खींच ...

0
शनि से डरना छोड़ें, पढ़ें शनि शांति के सरल उपाय
0

shani dev ke upay : शास्त्रों में वर्णित अनेक विधियां हैं, जिनमें प्रमुख रूप से शनि की शांति हेतु रुद्राभिषेक व हनुमानजी की सेवा, हवन आदि शामिल हैं। पाठकों के ...

0
आकस्मिकता देती है शनि-मंगल की युति
0

shani mangal yuti : शनि और मंगल दोनों की गिनती पाप ग्रहों में होती है। कुंडली में इनकी अशुभ स्थिति भाव फल का नाश कर व्यक्ति को परेशानियों में डाल सकती है, ...

0
शनि ग्रह हैं या देवता
0

shani planet or god : वैज्ञानिक दृष्टिकोण:- खगोल विज्ञान के अनुसार शनि का व्यास 120500 किमी, 10 किमी प्रति सेकंड की औसत गति से यह सूर्य से औसतन डेढ़ अरब किमी. ...

Mereprabhu
Logo
Enable registration in settings - general