Latest Posts
0
पंच तीर्थो में सर्वश्रेष्ठ हैं पुष्कर
0

सृष्टि के रचियता ब्रह्मदेव (Pushkar Brahma Temple ) का प्रमुख मंदिर राजस्थान के अजमेर जिले के पुष्कर में स्थित हैं, वैसे तो ब्रह्मा जी के कई मंदिर हैं,लेकिन यह ...

0
धर्म और आध्यात्म का केंद्र हैं महाबोध गया मंदिर
0

महाबोधि विहार ,( Mahabodhi Temple) या महाबोधि के नाम से विख्यात प्रसिद्ध बौद्ध मंदिर हैं, जो बोधगया में स्थित हैं, यही वह स्थान हैं जहा महात्मा बुद्ध को ज्ञान ...

0
सभी धर्मो के लिए आस्था का  प्रतीक हैं : स्वर्ण मंदिर
0

स्वर्ण मंदिर या golden temple  के नाम से मशहूर दरबार साहिब की ख्याति पूरे विश्व में में हैं. न केवल भारत बल्कि विदेशो से भी लोग स्वर्ण मंदिर देखने आते हैं, ...

0
Prem Mandir -कृष्ण का अलौकिक और दर्शनीय स्थल हैं!!
0

भगवान krishna को पूर्णावतार कहा गया हैं. भगवान विष्णु के नौ अवतारों में भगवान कृष्ण प्रेम , ज्ञान, राजनीति ,वीरता ,का अद्भुत समावेश हैं. कृष्ण की इन्ही पूर्ण ...

0
भगवान विष्णु जहाँ पितृ देव के रूप में प्रदान करते हैं मोक्ष
0

भगवान विष्णु (  Vishnupad Temple Gaya ) के अनेक धाम और मंदिर समूचे भारतवर्ष में हैं, इन्ही में से एक मंदिर हैं जो विष्णु के चरण चिन्हो की वजह आस्था और विश्वास ...

0
वृषभ जयंती : गौ दान का हैं विशेष महत्व
0

सूर्य का वृषभ सक्रांति में प्रवेश ही वृषभ सक्रांति (vrishabha jayanti ) कहलाता हैं, इस वर्ष वृषभ सक्रांति    (Vrishabha Sakranti 15 मई 2018 ) को होगी. हिन्दू ...

0
शनि की होगी कृपा :करे शनि जयंती पर शनि का स्मरण
0

इस वर्ष शनि जयंती 15 मई 2018 (Date Of Shani Jayanti 2018) को मनाई जाएगी.न्याय के देवता के रूप में प्रसिद्द शनि देव को न्यायकारी देवता के रूप में माना जाता हैं. ...

0
मोहनी एकादशी  : सभी एकादशी में सर्वश्रेष्ठ
0

मोहिनी एकादशी (2018 Mohini Ekadashi)का व्रत हिन्दू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता हैं. श्री हरि को समर्पित यह व्रत पाप से मुक्त प्रदान करने वाला माना जाता ...

0
शक्तिपीठो में एक हैं  माँ चामुंडेश्वरी का पावन धाम
0

भारतीय संस्कृति का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हैं यहाँ की सभ्यता और संस्कृति , और संस्कति और सभ्यता को एक जीवंत रूप प्रदान करते हमारे मंदिर जो हमारी समृद्ध और ...

0
तैतीस करोड़ देवी देवताओ का प्रतीक हैं पाताल भुवनेश्वर की गुफा
0

देवभूमि उत्तराखंड को (Patal Bhuvaneshwar Uttrakhand) यही देवभूमि नहीं कहा जाता हैं.देवो की भूमि कही जाने वाली यह धरा विभिन तीर्थस्थानो , से सुशोभित हैं, बद्री ...

Mereprabhu
Logo
Enable registration in settings - general