एक बार अपना कर तो देखे इन पांचो में से कोई एक उपाय, शनि देव बदल कर रख देंगे आपकी किस्मत !

एक न्यायधीश के तौर पर पहचाने जाने वाले शनिदेव इंसान के हर अच्छे और बुरे कर्मों का सही वक्त आने पर फल देते हैं. ऐसा कहा जाता है कि अगर किसी की कुंडली में शनिदेव प्रतिकुल स्थान पर बैठे हों तो उसे अपने जीवन में कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है.

लेकिन ये जरूरी नहीं कि ये स्थिति हमेशा ही ऐसे बनी रहे. आप शनिदेव को प्रसन्न कर उनका आशीर्वाद पा सकते हैं और इन परेशानियों को कम कर सकते हैं. लेकिन सवाल ये है कि शनिदेव को कैसे प्रसन्न किया जाए. तो आइए हम आपको बताते हैं 5 आसान से उपाए जिससे शनिदेव को प्रसन्न किया जा सकता है.

काला चना :-

शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए सबसे पहला उपाय है काले चने. जी हां, आप शुक्रवार की रात काले चने को पानी में भिगो कर रख दें और अगले दिन यानि शनिवार को वो काले चने साथ ही जला हुआ कोयला, हल्दी और लोहे के एक टुकड़े को काले कपड़े में एक साथ बांध लें.

अब ये काले रंग की पोटली आपको बहते हुए पानी में डालनी है. लेकिन ये ध्यान रखें कि उस पानी में मछलियां बिल्कुल भी ना हों. इस उपाय से आपको बदलाव जल्द ही देखने को मिलेगा.

घोड़े की नाल :-

शनिदेव को प्रसन्न करने के दूसरे उपाय के बारे में बात करें तो इसके लिए आपको एक काले घोड़े की नाल ढूंढकर लानी होगी. इस नाल को आप किसी लोहार से अगूंठी जैसा बनवा लें.

इसके बाद शुक्रवार को इस अगूंठी को कच्चे दूध या फिर साफ पानी में भिगो कर रख दें. इसके बाद आप इस अगूंठी को पहन लें और शनिदेव को ध्यान करें. आपको फल अवश्य मिलेगा.

काला सूत :-

तीसरे उपाय में आप हर शनिवार पीपल के पेड़ के चारों ओर सात बार कच्चा सूत लपेटें साथ ही साथ शनि मंत्र का जाप भी करते रहें. इस सूत के धागे को पीपल के पेड़ पर लपेटने के बाद दीया जलाना ना भुलें.

काली गाय की पजा :-

काली गाय की पूजा करने से भी शनिदेव प्रसन्न होते हैं. पूजा के दौरान आप काली गाय के माथे पर तिलक लगाएं और उसके सींघ पर धागा भी बांधे. इससे आप जीवन में आ रहे साढ़ेसाती के प्रतिकुल प्रभाव को रोक सकते हैं.

हनुमान चालीसा :-

इस पांचवें उपाय को आप अपनी दिनचर्या बना लीजिए. हर सुबह स्नान के बाद हनुमान चालीसा का पाठ करें. शनिदेव ने रामायण काल में स्वयं हनुमान जी को ये वर दिया था कि जो कोई भी नियत रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करेगा उसके जीवन में शनिदेव की कुदृष्टि कभी नहीं पड़ेगी.

शनिदेव की कृपा दृष्टि पाने के लिए इन सरल उपायों का पालन करें और फिर देखें कैसे कठिनाईयों के बादल छंटते हैं और सुखों का आगमन होता है. शनिदेव से किसी को भयभीत होने की जरूरत नहीं है. अगर आप भी उन्हें प्रसन्न करने में सफल हो जाते हैं तो देखिए कैसे शनिदेव हर क्षण आपकी रक्षा करते हैं.