sade sati
0
आकस्मिकता देती है शनि-मंगल की युति
0

shani mangal yuti : शनि और मंगल दोनों की गिनती पाप ग्रहों में होती है। कुंडली में इनकी अशुभ स्थिति भाव फल का नाश कर व्यक्ति को परेशानियों में डाल सकती है, ...

0
शनि ग्रह हैं या देवता
0

shani planet or god : वैज्ञानिक दृष्टिकोण:- खगोल विज्ञान के अनुसार शनि का व्यास 120500 किमी, 10 किमी प्रति सेकंड की औसत गति से यह सूर्य से औसतन डेढ़ अरब किमी. ...

Mereprabhu
Logo
Enable registration in settings - general